ब्रेकिंग
Aaj ka rashifl: आज दिनांक 20/05/2024 को जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे Harda: कलेक्टर श्री सिंह ने जिला जेल का किया आकस्मिक निरीक्षण , अव्यवस्थाओं को लेकर नाराजगी व्यक्त क... Harda sirali BIG news: कुख्यात ईनामी बदमाश इमरान उर्फ मौलाना को सिराली पुलिस ने किया गिरफ्तार! 5 वर्... देवास: किसान के खेत में बंधी गोवंश की हत्या, बोरी में भरकर ले जा रहे थे आरोपी, एक पकड़ाया अन्य भाग ग... Sirali news: कलेक्टर श्री सिंह ने तहसील कार्यालय सिराली का औचक निरीक्षण किया Harda: कलेक्टर श्री सिंह ने नहरों से सिंचाई कार्य का निरीक्षण किया, सिंचाई में बाधक बनने वाले हेडअप ... कन्नौद: नदी में डूबने से 17 वर्षीय युवक की मौत, मृतक कन्नौद के वार्ड क्रमांक 4 का निवासी नर्मदा नदी: रील के चक्कर में जान गवाई! नर्मदा नदी के पुल से कूदे दो युवक हुई मौत, इधर नर्मदा पुरम मे... गैस सिलेंडर सब्सिडी हुई जारी, ऐसे चेक करे अपना नाम लखपति दीदी योजना: केंद्र सरकार 3 करोड़ महिलाओं को बनाएगी लखपति, शुरू हुई योजना

कलयुग के श्रवण कुमार बने रौनक गुर्जर, अपनी जांघ कि चमड़ी काट बनाई चरण पादुका, भागवत कथा में मां को पहनाई!

उज्जैन। शीर्षक पढ़कर आप हैरान हो गये होगे अभी तक कोई अपनी प्रेमिका के लिए तो कोई अपनी पत्नी के लिए हाथो कि नस काट लेते सुना होगा।

लेकिन एक बेटे ने रामायण से प्रेरित होकर अपनी मां को अपनी चमड़ी से बनाई हुई चरण पादुका बनाकर पहना दी।
यह पूरा मामला उज्जैन जिले का है। 7 दिवसीय भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। कथावाचक अंतरराष्ट्रीय आध्यात्मिक गुरु जितेंद्र महाराज के मार्गदर्शन में धार्मिक आयोजन संपन्न किया जा रहा है। इसी भागवत कथा के दौरान रौनक गुर्जर ने अपना संकल्प पूरा करते हुए मां के चरणों में अपनी चमड़ी से बनी चरण पादुका पहनाई।

कलयुग में जहां एक ओर बुढापे में बेटे अपने माता पिता को घर से बाहर निकाल देते है।
अपनी खुशियों के लिए मां-बाप को दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर कर देते हैं।

वहीं कुछ कलयुगी पुत्र उन्हें वृद्धा आश्रम में भी छोड़ आते हैं।

लेकिन इसी बीच कलयुग में भी ऐसे बेटे भी अभी है। जो अपने मां बाप से इतना प्रेम करते है। ताजा उदाहरण मध्यप्रदेश के उज्जैन में देखने को मिला।
कलयुग के एक श्रवण कुमार जिनका नाम रौनक गुर्जर है। जो कभी हिस्ट्रीशीटर हुआ करता था। लेकिन समय का काल चक्र बदला एक हिस्ट्रीशीटर अब भक्ति के मार्ग पर चला। अब वो धर्म के काम में ज्यादा रुचि लेने लगा।
रौनक गुर्जर की सुबह की शुरुआत रामायण से होती है। रामायण से शुरुआत ही नहीं बल्कि वह इसे जीवन में आत्मसात भी करते हैं।

- Install Android App -

ढांचा भवन क्षेत्र में रहने वाले युवक ने अपनी मां से अगाध प्रेम होने के कारण कुछ समय पूर्व लिए गए अनूठे संकल्प को पूरा किया। उन्होंने अपनी मां के लिए जांघ की चमड़ी से चप्पल बनवाई है।

दरअसल, ढांचा भवन क्षेत्र में रहने वाले रौनक गुर्जर जो हर दिन रामायण पाठ करते हैं। उन्हें रामायण पढ़ते हुए ऐसी प्रेरणा मिली कि उन्होंने यह संकल्प लिया कि वह अपनी चमड़ी से मां के लिए चप्पल बनवाएंगे। रौनक गुर्जर ने इस संकल्प को किसी को भी नहीं बताया। बीते दिनों उन्होंने एक सर्जरी के बाद अपनी जांघ से चमड़ी निकलवाई। उसी चमड़ी से मां के लिए चरण पादुका बनवाई और उन्हें भेंट कर दी।
जब बेटे रौनक गुर्जर ने मां को सबकी उपस्थिति में यह चप्पल बनाई तो वहां मौजूद सभी लोगों के आंसू बहने लगे। यही नहीं, मां भी बेटे से लिपटकर रोने लगी। मां का नाम निरूला गुर्जर है। मां के प्रति बेटे का यह प्यार देखकर लोग भाव विभोर हो गए थे।

 

Don`t copy text!