ब्रेकिंग
Dewas News: रील बनाने वाले युवक की हुई पिटाई विडियो वायरल करने से किया था मना, पीड़ित ने थाने मे शिका... खंडवा: खानापूर्ति कब तक चलेगी शिक्षा विभाग: गणेश भावसार गोवंश का पूजन कर के गौवंश रक्षा का संकल्प लिया Aaj ka rashifal: आज दिनांक 15/07/2024 का राशिफल,जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे हरदा: प्रधानमंत्री कॉलेज ऑफ एक्सीलेंस का शुभारंभ कार्यक्रम संपन्न, हरदा विधायक दोगने पूर्व मंत्री प... हरदा: बलाही समाज की बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए 18 कन्याओं को निशुल्क सिलाई मशीन वितरण की गई, श्री गणेश भावसार पालक महासंघ मध्यप्रदेश (रजि.) के खंडवा जिला अध्यक्ष नियुक्त हंडिया : आधा घंटा हुई झमाझम बारिश,मौसम हुआ सुहाना, Harda:एक पौधा मां के नाम" अभियान के तहत सर्किट हाउस परिसर में हुआ पौधारोपण, कलेक्टर श्री सिंह और अन्... Harda Big news: सोने चांदी के आभूषण चोरी करने वाले 03 आरोपी गिरफ्तार, 1 लाख 65 हजार के सोने चांदी के...

खातेगांव : जल है तो कल है इसे बचाने के लिए हमें जल संरचनाओं को पुर्नजीवित करने के प्रयास करना होंगे- मंत्री श्री पटेल

प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री श्री प्रहलाद पटेल ने बागली के जटाशंकर में आयोजित जल गंगा संवर्धन अभियान में सहभागिता की

अनिल उपाध्याय   खातेगांव 

प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग तथा श्रम विभाग के मंत्री श्री प्रहलाद पटेल ने देवास जिले के बागली विकासखंड जटाशंकर स्थल में आयोजित “जल गंगा संवर्धन अभियान” में सहभागिता की। मंत्री श्री प्रहलाद पटेल ने जटाशंकर महादेव मंदिर में पूजा अर्चन की तथा प्रदेश की सुख-समृद्धि की कामना है। उन्होंने जटाशंकर क्षेत्र एवं कुंड की साफ-सफाई की। इसके पश्चात मंत्री श्री पटेल ने ग्राम पंचायत बरझाई में कालीसिंध नदी उद्गम स्थल पर साफ-सफाई की तथा पौधारोपण किया।

 

कार्यक्रम में मंत्री श्री प्रहलाद पटेल ने जनसमुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि आज मेरे लिए बड़े ही सौभाग्य की बात है कि मैं भगवान जटायू की तपोभूमि पर आया हूं। पानी की बूंदें आज भी लगातार गिरती हैं। मन को बड़ी प्रसन्तामै हुई। उन्होंने कहा कि हमें अपने पर्यावरण को भी इसी प्रकार संभालकर रखना है। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि “जल गंगा संवर्धन अभियान” 05 जून से प्रारंभ हुआ था जो कि 16 जून गंगा दशहरा तक चलेगा।

मंत्री श्री पटेल ने कहा कि देश में आज जनसंख्या लगातार बढ़ती जा रही है लेकिन पानी हमारे पास उतना है। आजादी के समय देश की आबादी 40 करोड़ थी जो वर्तमान में बढ़कर 142 करोड़ के लगभग हो गई है लेकिन पानी उतना ही है। भारत सरकार ने प्रति व्यक्िानर् को 55 लीटर पानी देने का फैसला किया। लेकिन हम पानी को बना नहीं सकते हैं। पानी ऊपर से गिरेगा और धरती माता में जाएगा तभी हमें पानी मिलेगा। बारिश के पानी और अन्य जल स्त्रोतों के पानी को संरक्षण किए बिना हम पानी को सहजकर नहीं रख सकते हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने जरूर बात कि जो बांध, तालाब सिंचाई के लिए बनाए जाते हैं, उनका पानी पीने योग्य कैसे बनाए। पानी शुद्ध, साफ-स्वच्छ एवं निर्मल होना चाहिए। उन्होंने कहा पानी कोई नहीं दे सकता है, पानी धरती माता ही दे सकते है लेकिन पानी आसमान से गिर धरती पर आएगा पर हमें उसे संभालकर उसका संरक्षण करना होगा। इसके लिए हमें कार्य करना होगा। जल गंगा संवर्धन अभियान जल संरक्षण के लिए चलाया जा रहा है। हमें अपनी जिम्मेदारी को समझना होगा और इनका संरक्षण करना होगा तभी हम अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए कुछ करके जाएंगे।

मंत्री श्री पटेल ने कहा कि हमारे पूर्वज बहुत ही समझदार और भविष्य को देखकर ही काम करते थे। उन्होंने आने वाली पीढ़ी के लिए पहले से ही कुएं, बावड़िया, कुंडों, तालाब, झीलों एवं घाटों को निर्माण करवाया और हम लोगों को सौगात के रूप में देकर गए। हमें जो सौगात देकर गए हैं, उनको हमें अब संरक्षित करना है, जिससे हमारी आने वाली पीढ़ी को पर्याप्त मात्रा में जल मिल सकें। उन्होंने कहा कि पेड़ तो हम सभी लगाते हैं, लेकिन उनका संरक्षण कोई नहीं करता है। अगर हम पेड़ों का संरक्षण अच्छे से कर लें तो निश्चित ही हमारा वातावरण तो अच्छा होगा, साथ ही संरचनाओं में पानी भी रहेगा।

मंत्री श्री पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने जब अभियान प्रारंभ किया था तब मैंने भी तय किया कि मैं नदियों के उद्गम स्थल तक जाउंगा। मैं लगातार उद्गम स्थल पर जा रहा हूं। आज बागली की ग्राम पंचायत जटाशंकर में आया हूं। बड़ा ही अच्छा लग रहा है कि भगवान जटायू की तपो भूमि हैं, जहां जल की धारा लगातार बह रही है।

मेरा सभी से आग्रह है कि जल गंगा संवर्धन अभियान में बढ़चढ़कर सहभागिता करके ज्यादा से ज्यादा जल संरक्षण का कार्य करें। उन्होंने कहा कि ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करें। वृक्षारोपण के साथ ही उनकी देखभाल भी करें। उन्होंने कहा कि वृक्ष होंगे तो जल होगा, जल होगा तो हमारा जीवन चलेगा। यह नारा नहीं है सच्चाई है। जल ही जीवन है इसलिए आने वाली पीढ़ी को ध्यान में रखते हुए ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करें। उन्होंने कहा कि हम अक्सर लालच में आ जाते है और अपने खेतों में लगे पेड़-पौधों को काटकर वहां या तो निर्माण कर लेते हैं या फिर खेती प्रारंभ कर देते हैं। हमें खेतों, आंगनों में लगे पेड़-पौधों को संरक्षित करना ही है साथ ही दूसरे पौधों को बड़ा करना है। वृक्ष हमें छाया ही नहीं देते, हमें जीवनदायनी ऑक्सीजन और पीने के लिए पानी भी देते हैं।

मंत्री श्री पटेल ने कहा कि मैं आज सभी बुजुर्गों एवं मातृ शक्तियों से आग्रह करता हूं कि अपने बच्चों को बताएं कि वे अपने जल स्त्रोतों नदी, तालाब, कुएं बावड़ियों को संरक्षित रखें। उन्होंने कहा कि नदी हमें पानी ही नहीं देती है, नदी हमारी संस्कृति का आधार हैं। हम नदियों को इसलिए ही पूजते हैं। हम नदी को संरक्षित करके रखेंगे तो हमारी संस्कृति भी संरक्षित रहेगी और हमें हमेशा शुद्ध पेयजल भी मिलता रहेगा।

कार्यक्रम में विधायक श्री मुरली भंवरा ने संबोधित करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा संचालित जल गंगा संवर्धन अभियान में हम सभी सहभागी बन रहे हैं। वर्तमान समय में इस जल का बचाव होना चाहिए। जल बचाव के साथ-साथ जल संरक्षण भी सभी लोगों को करना है। क्योंकि हमारा जीवन जल ही है जल ही जीवन है और हम इस पर ही निर्भर है। जल है तो कल है।

- Install Android App -

इस जल को बचाने के लिए मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने जल गंगा संवर्धन अभियान हमारे प्राचीन कुएं, बावड़ी तालाब, झीलों, नदियों सभी को संरक्षण करने के लिए प्रारंभ किया है। यह हम सभी के लिए पुण्य कार्य है। उन्होंने कहा कि बागली विधानसभा क्षेत्र में यह कार्य बहुत ही तेजी से संचालित किया जा रहा है। जिसमें नागरिकों द्वारा उत्साह से सहभागिता हो रही है। इस कार्य में हम सभी लोग लगे हैं। शासन सभी योजनाएं एवं अभियान जनकल्याण के लिए होती है। यह सब आमजन के सहयोग से पूरी होती है। हम सभी को जल गंगा संवर्धन अभियान के बाद भी हमारे जल स्त्रोतों को बचाना है तथा अधिक से अधिक वृक्षारोपण करके उनका संरक्षण भी करना है।

कार्यक्रम में हाटपीपल्या विधायक श्री मनोज चौधरी ने संबोधित करते हुए कहा कि जल गंगा संवर्धन अभियान के माध्यम से हम जल का संरक्षण कर सकते हैं। हमें जल संरक्षण के लिए के साथ-साथ सघन वृक्षारोपण करना है तथा उनका भी संरक्षण करना है। उन्होंने कहा कि पानी की समस्याएं हमारी माता-बहनें अच्छे से समझ सकती है।

उन्हें पानी की कीमत मालूम है। क्योंकि वे अक्सर दूर दराज के कुएं-बावड़ी एवं तालाबों से अपने सिर पर रखकर लाती है। इसलिए हमें अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए जल स्त्रोतों का संरक्षण करना है और वृक्षारोपण कर पर्यावरण को भी संतुलित करना है। उन्होंने कहा कि दो-तीन वर्ष पहले कोरोना महामारी के समय ऑक्सीजन की अहमियत हमें मालूम पड़ी थी। वे लोग बहुत ही अच्छे से जानते हैं, जिन्होंने इस कोरोना काल में अपने परिजनों को ऑक्सीजन की कमी की वजह से खोया है। इसलिए हमें पेयजल भी मिलें और शुद्ध ऑक्सीजन भी मिलें इसके लिए पौधरोपण करके उनका संरक्षण भी करें।

कार्यक्रम में श्री राजीव खंडेलवाल ने कहा कि जल के बिना सब सूना है। अगर हमें शुद्ध पेयजल चाहिए तो हमें उनका संरक्षण करना होगा। हमारी सरकार द्वारा जल गंगा संवर्धन अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के माध्यम हमारे जितने भी जल स्त्रोत है उनका संरक्षण किया जा रहा है। इस अभियान में हमें और ज्यादा से ज्यादा सहभागिता करना है और हमारे जल संरक्षणों को संरक्षित करना है।

कार्यक्रम में सीईओ जिला पंचायत श्री हिमांशु प्रजापति ने जल गंगा संवर्धन अभियान का उदृदेश्य जिले में स्थित विभिन्न जल स्त्रोतों नदी, तालाब, कुंआ, बावड़ी तथा अन्य जल स्त्रोतों एवं संरचनओं का संरक्षण व पुर्नजीवन करना है। जिले में जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत किए जा रहे कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी और बताया कि जिले में जिले में 196 पुराने तालाब, 105 स्टॉप डेम, 172 कुएं-बावड़ियां व अन्य जल स्त्रोतों पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देवास जिले में रूफ हॉर्वेस्टिंग सिस्टम के माध्यम से लगभग 250 स्थानों पर बारिश के पानी के संग्रहण के लिए कार्य किया जा रहे हैं। नर्मदा नदी के साथ ही क्षिप्रा, कालीसिंध सहित अन्य नदियों को शुद्ध बनाने का कार्य इस अभियान के माध्यम से किया जाएगा।

——

 

Don`t copy text!