ब्रेकिंग
MP NEWS : समोसे में नशीला पदार्थ मिलाकर गर्भवती हिंदू महिला से 4 मुस्लिम दरिंदे युवकों ने किया गैंगर... वृद्धजनों की बीमारियों का निशुल्क उपचार करवाएगी सरकार : कृषि मंत्री कमल पटेल छगन भुजबल पर समाजिक कार्यकर्ता को जान से मारने की धमकी का आरोप , मामला दर्ज HARDA BIG NEWS : दुष्कर्म के एक सनसनीखेज मामले में आरोपीगण दोषमुक्त, अंतरराष्ट्रीय कराते कोच है नीले... MP BIG NEWS: भोपाल पुलिस की बड़ी कार्यवाही चोरी की 37 बाइक जप्त, 5 आरोपी गिरफ्तार, एक युवक हरदा जिले ... प्रधानमंत्री मोदी आज करेगे 5जी की लांचिंग, देश तकनीक में एक और कदम आगे जानिए ... जीएसटी में 1 अक्टूबर से क्या होगा, नया परिवर्तन कांग्रेस अध्यक्ष की नामांकन प्रक्रिया पूरी,मल्लिकाजुन खड़गे,थशि थरुर और केएन त्रिपाठी में होगा मुकाबल... राजस्व निरीक्षक ने फसल आनावारी हेतु किया फसल कटाई प्रयोग आज दिन शनिवार का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे

आज 5249 साल के हो गए भगवान कृष्ण, 400 साल बाद जन्माष्टमी पर बन रहे 8 शुभ संयोग

Header Top

Janmashtami 2022 : पूरे देश में आज भगवान श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व पूरे उत्साह के साथ मनाया जा रहा है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान श्री कृष्ण की आज 5249 वीं जयंती है। धार्मिक मान्यता है कि भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को भगवान कृष्ण का जन्म मध्य रात्रि को हुआ था।

125 साल तक धरती पर रहे थे भगवान श्रीकृष्ण
पौराणिक शास्त्रों के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण द्वापर के अंत में धरती पर 125 वर्ष तक रहे थे। उनकी इस आयु 5117 वर्ष को जोड़ दिया जाए तो भगवान श्रीकृष्ण इस साल धरती पर अपने जीवन काल का 5249 वां वर्ष पूर्ण कर लेंगे। धार्मिक ग्रंथों के मुताबिक भगवान श्रीकृष्ण जन्म 3112 ईसा पूर्व हुआ था। जब महाभारत का युद्ध हुआ था, तब श्री कृष्ण लगभग 56 वर्ष के थे।
Shri
भगवान कृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में हुआ था और भगवान कृष्ण की कुंडली में वृषभ लग्न है। इस साल कृष्ण जन्माष्टमी पर खरीदारी के लिए शुभ मुहूर्त रहेगा। इसके लिए खरीदारी का शुभ मुहूर्त सुबह 9:00 बजे से 10:30 बजे तक, दोपहर 12:00 बजे से 02:30 बजे तक और शाम को 5:30 से 7:30 बजे तक रहेगा।
भगवान विष्णु के अवतार हैं श्रीकृष्ण
पौराणिक मान्यता के अनुसार श्रीकृष्ण त्रिदेवों में से एक भगवान विष्णु के अवतार हैं। कृष्ण के आशीर्वाद और कृपा को पाने के लिए हर साल लोग इस दिन व्रत रखते हैं और आधी रात में उनके जन्म के समय में पूजा अर्चना करते हैं। भजन कीर्तन करते हैं और जन्मोत्सव मनाते हैं।
डिसक्लेमर
‘इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।’

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!