ब्रेकिंग
हरदा कलेक्ट्रेट में ई-ऑफिस पोर्टल प्रारम्भ टिमरनी नगर में घूमने वाले मवेशियों को कांजी हाउस भेज कर लगाई वैक्सीन हरदा न्यूज़ : जिला स्तरीय क्लस्टर विकास सम्मेलन सम्पन्न कृषि अवसंरचना निधि के उपयोग में देश में अव्वल पायदान पर है मध्यप्रदेश - कृषि मंत्री कमल पटेल हरदा बड़ी खबर- तीन से चार अज्ञात बदमाशो ने बुजुर्ग महिला के घर में घूसकर , मुंह दबाया और सोने के जेवर... मार्ग पर लगे जाम को हटाने गए पुलिसकर्मी से वाहन चालको ने की मारपीट कांग्रेस में अध्यक्ष पद हेतु अशोक गहलोत,शशि थरुर और दिग्विजय सिंह के बीच त्रिकोणीय मुकाबला नेता के बंगले पर कार्यरत कमांडर गार्ड द्वारा नौकरी लगवाने के नाम पर युवक से ऐंठे 5 लाख रुपयें गरबा करती युवतियों पर कमेंट करने वाले युवक को पकड़ , किया पुलिस के हवाले गरबा मे मुस्लिमो के प्रवेश पर लगे रोक,हम अपनी पूजा पद्धति को शुद्ध रखना चाहते है- प्रज्ञा ठाकुर

अलविदा 2018: कुश्ती में काैन सितारे उभरे, काैन हुए फ्लाॅप, पढ़ें खास रिपोर्ट 

Header Top

भारतीय कुश्ती के लिए साल 2018 शानदार रहा जिसमें बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट ऐतिहासिक पदकों के साथ इस खेल के नए सितारे बनकर उभरे तो सुशील कुमार और साक्षी मलिक जैसे ओलंपिक पदक पहलवान लय पाने के लिए जूझते दिखे। पहलवानों के लिए अच्छी खबर यह भी रही कि साल खत्म होने से पहले राष्ट्रीय महासंघ लगभग 150 खिलाड़ियों को अनुबंध प्रणाली के तहत ले आया। यह पहली बार है जब भारतीय पहलवानों को महासंघ से केंद्रीय अनुबंध मिला है। बजरंग और विनेश ने पदक जीतने के साथ जिस तरह से पूरे साल प्रदर्शन किया वह और भी शानदार था। उनके प्रदर्शन से दो साल से कम समय में तोक्यो में होने वाले ओलंपिक खेलों में कुश्ती में भारत के लिए पहले स्वर्ण पदक की आस जगा दी है।

इनके लिए रहा निराशाजनक साल

ओलंपिक की बात करें तो भारत के लिए दो व्यक्तिगत पदक जीतने वाले एकमात्र पहलवान सुशील कुमार और ओलंपिक पदक जीतने वाली देश की पहली और एकमात्र महिला पहलवान साक्षी मलिक के लिए यह साल निराशाजनक रहा। सुशील ने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जरूर जीता लेकिन वहां उन्हें टक्कर देने वाला को कोई दमदार पहलवान नहीं था। साक्षी राष्ट्रमंडल खेलों के साथ एशियाई खेलों में भी प्रभाव छोड़ने में नाकाम रही। गोल्डकोस्ट में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य जीतने वाली साक्षी ने भी माना कि उन्हें मानसिक तौर पर और मजबूत होने की जरूरत है। सुशील एशियाई खेलों के पहले ही दौर में हारकर बाहर हो गये लेकिन वह इस बात को मानने को तैयार नहीं है कि उनका दमखम में कमी आई है। वह तोक्यो ओलंपिक में एक बार फिर से अपनी किस्मत आजमाना चाहते हैं। गोंडा में अभी हाल ही में हुई राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में हालांकि इन खिलाड़ी को कोई खास टक्कर नहीं मिली और दोनों ने अपने-अपने भार वर्ग में परचम लहराया।

Shri

बजरंग ने किया कारनामा

बजरंग और विनेश ने जिस तरह से राष्ट्रमंडल खेलों के बाद एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक हासिल किए वह अपने आप में खास था। कुश्ती में एशिया का दबदबा माना जाता है और ऐसे में एशियाई पहलवानों को मात देकर खिताब जीतना बड़ी उपलब्धि है। विनेश चोट के कारण पदकों की फेहरिस्त में विश्व चैम्पियनशिप को शामिल नहीं कर सकी तो वहीं बजरंग ने इस टूर्नामेंट में रजत पदक हासिल कर साल के सभी बड़े टूर्नामेंटों में पदक जीतने का कारनामा किया। फाइनल में उनकी हार ने कमजोर डिफेंस को उजागर किया। जापान के ताकुतो ओतोगुरो ने लगातार उनके दाएं पैर पर हमला किया जिसका बजरंग के पास कोई जवाब नहीं था।

पूजा ढांडा ने बनाई पहचान

अन्य फोगाट बहनों में ऋतु, संगीता, बबीता और गीता के लिए भी यह साल कुछ खास नहीं रहा। लेकिन जिस एक खिलाड़ी ने भारतीय कुश्ती में अपनी पहचान बनाई वह है पूजा ढांडा। राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली इस खिलाड़ी ने विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक हासिल किया। वह ऐसा करने वाली चौथी भारतीय महिला खिलाड़ी बनीं। उनसे पहले अल्का तोमर, गीता और बबीता ने विश्व चैम्पियनशिप में पदक हासिल किया था।

भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआइ) ने टाटा मोटर्स के साथ मुख्य प्रायोजक के तौर पर करार किया जिसका फायदा 150 पहलवानों को केन्द्रीय अनुबंध के रूप में मिला। इसमें ए ग्रेड के खिलाड़ियों को 30 लाख रुपए दिए जाएंगे। इस ग्रेड में पहले बजरंग, विनेश और पूजा का नाम था लेकिन बाद में महासंघ ने सुशील और साक्षी का नाम इसमें जोड़ा। इसके साथ ही डब्ल्यूएफआई पहली बार इस खेल में दबदबा रखने वाले ईरान के कोच की सेवाएं लेने में सफल रहा। ईरान के होसैन करीमी, अमेरिका के एंड्रयू कूक और जोर्जिया के तेमो काताराशिविलि से डब्ल्यूएफआई ने एक साल का करार किया है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!