ब्रेकिंग
Aaj ka rashifl: आज दिनांक 04/12/2023 का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे कलेक्टर श्री गर्ग ने मतगणना उपरान्त सभी का आभार प्रकट किया हरदा से डॉ. दोगने व टिमरनी से श्री अभिजीत शाह निर्वाचित, देखे किसे कितने वोट मिले नर्मदापुरम की चारों विधानसभा से भाजपा विजय समर्थकों ने जुलूस निकाला, विजेता प्रत्याशियों को निर्वाचन... हरदा विधानसभा रिटर्निंग अधिकारी श्री आशीष खरे ने कांग्रेस प्रत्याशी डॉक्टर दोगने को दिया जीत का प्रम... टिमरनी विधानसभा के रिटर्निंग अधिकारी ने अभिजीत शाह को दिया जीत का प्रमाण पत्र टिमरनी कांग्रेस अभिजीत शाह मकड़ाई चुनाव जीते, चाचा संजय शाह को हराया | Harda Big News: पूर्व विधायक रामकिशोर दोगने को हरदा विधानसभा की जनता ने दिया आशीर्वाद। 870 वोट से वि... Harda Update: हरदा विधानसभा चुनाव, 19 राउंड कंप्लीट 1011 से आगे... Harda Update: हरदा विधानसभा चुनाव, 18 राउंड कंप्लीट, रामकिशोर दोगने टोटल 870 से आगे...

केंद्र का राज्यों को आदेश, अवैध रूप से रह रहे रोहिंग्‍याओं की अब इस आधार पर करो पहचान

नई दिल्लीः भारत सरकार ने अवैध रूप से रह रहे रोहिंग्या शरणार्थियों की पहचान की पुष्टि के लिए अब सभी राज्य सरकारों से, शरणार्थियों की मूल भाषा के आधार पर नए सिरे से आंकड़े जुटाने को कहा है। दरअसल म्यांमार सरकार के अनुरोध पर भारत सरकार से अनुरोध किया था कि भाषा के आधार पर भी रोहिंग्या शरणार्थियों की पहचान की जाए। इससे पहले, अक्तूबर 2017 में सिर्फ अंग्रेजी भाषा वाले प्रारूप के आधार पर ही अवैध शरणार्थियों की पहचान की गई थी। भारत में म्यांमार दूतावास ने, अवैध शरणार्थियों की स्थानीय भाषा की जानकारी के आधार पर पहचान सुनिश्चित करने के लिए, दो भाषाओं वाले फार्म का प्रारूप केन्द्र सरकार को मुहैया कराया है। अवैध रोहिंग्या शरणार्थियों की मौजूदगी वाले राज्यों को गृह मंत्रालय ने गत 20 सितंबर को भेजे द्विभाषी फॉर्म के आधार पर इन शरणार्थियों की पहचान संबंधी सभी आंकड़े (बायोग्राफिक डाटा) जुटाने को कहा है।
इससे जुड़े प्रपत्र में मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि इन शरणार्थियों की म्यांमार वापिसी सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकारों द्वारा जुटाए गए पहचान संबंधी आंकड़े केन्द्रीय एजेंसियों की ओर से दिए गए आंकड़ों से मेल नहीं खा रहे हैं। इसके मद्देनजर म्यांमार सरकार ने भी इन आंकड़ों के आधार पर वापसी के लिए चिन्हित किए गए शरणार्थियों की पहचान की पुष्टि नहीं होने के कारण उनकी स्थानीय भाषा के आधार पर बायोग्राफिक डाटा जुटाने का अनुरोध किया है जिससे इनकी पहचान सुनिश्चित की जा सके। चार पृष्ठ वाले नए फार्म में शरणार्थियों के मौजूदा निवास स्थान की पूरी जानकारी के अलावा संबद्ध इलाके के प्रभावशाली व्यक्ति का भी उल्लेख करने को कहा गया है। इसके अनुसार, शरणार्थी यदि ग्रामीण क्षेत्र में रह रहा है तो गांव के सरपंच, मुखिया या फिर किसी प्रभावशाली व्यक्ति का नाम भी फार्म में देना होगा। जबकि शहरी क्षेत्र में रह रहे शरणार्थी के फार्म में वार्ड कमिश्नर अथवा पार्षद का नाम देना जरुरी कर दिया गया है।
साथ ही अवैध रूप से रह रहे शरणार्थी के पास उपलब्ध सभी सरकारी दस्तावेजों की जानकारी भी देनी होगी। फार्म में शरणार्थी के पास मौजूद म्यामां सरकार के दस्तावेकाों के अलावा, म्यांमार में उसकी जाति, भारत में यदि उनके कोई संबंधी हैं तो उसकी जानकारी और शारीरिक बनावट के अलावा उस एजेंट का भी जिक्र करना होगा जिसके माध्यम से वह भारत पहुंचा था। सरकार, अवैध रोहिंग्या शरणार्थियों के बारे में राज्यों से जुटाए गए बायोग्राफिक आंकड़ों को म्यामां सरकार के साथ साझा करेगी। इसके आधार पर इनकी नागरिकता की पुष्टि की जा सकेगी। एक अनुमान के मुताबिक, भारत में दिल्ली सहित विभिन्न राज्यों में लगभग 40 हजार रोहिंग्या शरणार्थी अवैध रूप से रह रहे हैं। इन्हें वापस म्यांमार भेजने के उद्देश्य से इनकी पहचान सुनिश्चित करने के लिए यह कवायद पिछले साल शुरू की गई थी।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!