Mjaghar

सर्व सिद्धि की प्राप्ति के लिए होती है देवी ब्रहाचारिणी की पूजा

Header Top

ब्रहाचारिणी माता-
वन्दे वांच्छितलाभाय चंद्रार्धकृतशेखराम्‌ ।
वृषारूढ़ां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्‌ ॥

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। मां ब्रह्मचारिणी मां दुर्गा का द्वितीय यानि दूसरा स्वरूप है। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानि आचरण करने वाली। ब्रह्मचारिणी मां की पूजा करने से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार और संयम की वृद्धि होती है। शास्त्रों में मां के हर रूप की पूजा विधि और कथा का महत्‍व बताया गया है। मां ब्रह्मचारिणी की कथा जीवन के कठिन समय में डटकर मुश्किलों का सामना करने के लिए प्रेरित करती है।

ब्रहाचारिणी मंत्र-
या देवी सर्वभू‍तेषु मां ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू।
देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा॥ 

Ashara Computer

देवी का यह रूप पूर्ण ज्योतिर्मय और अत्यंत भव्य है। मां अपने इस रूप में दाएं हाथ में जप की माला है और बाएं हाथ में कमंडल धारण किए हुए हैं।

देवी ब्रह्मचारिणी कथा-
ब्रहाचारिणी माता की कथा के अनुसार पूर्वजन्म में इस देवी ने हिमालय के घर पुत्री रूप में जन्म लिया था और नारद जी के उपदेश से भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी। एक हजार वर्ष तक इन्होंने केवल फल-फूल खाकर बिताए और सौ वर्षों तक केवल जमीन पर रहकर जड़ी-बूटी पर निर्वाह किया।

कुछ दिनों तक कठिन उपवास रखे और खुले आकाश के नीचे वर्षा और धूप के घोर कष्ट सहे। तीन हज़ार वर्षों तक टूटे हुए बिल्व पत्र खाए और भगवान शंकर की आराधना करती रही। इसके बाद तो उन्होंने सूखे बिल्व पत्र खाना भी छोड़ दिए। कई हज़ार वर्षों तक निर्जल और निराहार रह कर तपस्या करती रही। पत्तों को खाना छोड़ देने के कारण इनका नाम अपर्णा पड़ गया।

कठिन तपस्या के कारण देवी का शरीर एकदम कमज़ोर हो गया। देवता, ऋषि, सिद्धगण, मुनि सभी ने ब्रह्मचारिणी की तपस्या की सराहना की और कहा- हे देवी आज तक किसी ने इस तरह की कठोर तपस्या नहीं की, यह आप से ही संभव थी। आपकी मनोकामना परिपूर्ण होगी और भगवान चंद्रमौलि शिवजी आपको पति रूप में ज़रूर प्राप्त होंगे। अब तपस्या छोड़कर घर लौट जाओ। जल्द ही आपके पिता आपको लेने आ रहे हैं। मां की कथा का सार यह है कि जीवन के कठिन संघर्षों में भी मन विचलित नहीं होना चाहिए। मां ब्रह्मचारिणी देवी की कृपा से सर्व सिद्धि प्राप्त होती है। इस कठिन तपस्या के कारण इन्हें तपश्चारिणी अर्थात ब्रह्मचारिणी नाम से जाना जाता हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
सामर्थ्य प्रदर्शन कर दिव्यांग बच्चों ने जीते पुरस्कार धूमधाम से निकली सूरजगढ निशान यात्रा स्वास्थ्य सेवाओं में प्रदेश को देश में नंबर वन बनाना है- स्वास्थ्य मंत्री डॉ.प्रभुराम चौधरी हरदा भाजयुमो के जिलाध्यक्ष का आभासी इस्तीफ़ा ! फिर आभासी खंडन ... BREAKING NEWS HARDA : बहन के साथ आपत्तिजनक हालत में देख युवक ने दराती से हमला कर उतारा मौत के घाट, प... संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री कुर्रे ने मतदान केन्द्रों का निरीक्षण किया harda : 2021 बैच के आइएएस अधिकारियों को जिला प्रशासन के नवाचारों के बारे में बताया MP NEWS : 2 महिला और 2 पुरुष संदिग्ध हालत में मिले, लंबे समय से चल रहा था जिस्मफरोशी का धंधा sirali news : डॉ. भीमराव अंबेडकर जी की प्रतिमा स्थापित करने की मांग को लेकर CM के नाम तहसीलदार व नप ... गुजरात चुनाव 2022: कांग्रेस की ‘गाली’ पर मोदी-शाह का तगड़ा पलटवार, जानिए कैसे हुई जिन्ना की एंट्री