Mjaghar

भोपाल ने 9 दिन में साढ़े दस लाख लोगों की स्क्रीनिंग की

Header Top

कोरोना की स्क्रीनिंग में इंदौर बुरी तरह पिछड़ गया है। हॉट स्पॉट बने शहरों ने स्क्रीनिंग और सैंपल टेस्ट की रणनीति अपनाकर महामारी को काबू में किया, पर इंदौर में स्थिति बिगड़ने की एक वजह इसमें लापरवाही भी रही। इंदौर में कंटेनमेंट एरिया की संख्या ही 125 है, जिसमें केवल 25 फीसदी लोगों की ही स्क्रीनिंग हो पाई है। इसके उलट जिस भोपाल में मरीज बाद में मिलना शुरू हुए, वहां स्क्रीनिंग की रफ्तार बहुत तेज है। जहांगीराबाद जैसे इलाके में एक दिन में 900 सैंपल लिए गए। 415 लोग सर्दी-खांसी वाले मिले, उन्हें आइसोलेट कर दिया।

मुंबई : हर एक किमी पर हेल्थ सेंटर में हो रही जांच

यहां 24 हजार से अधिक सैंपल ले चुके हैं। धारावी में मरीज मिलने के बाद करीब साढ़े सात लाख लोगों की स्क्रीनिंग हो रही है। 50 हजार से ज्यादा होम क्वारेंटाइन तो 4 हजार क्वारेंटाइन सेंटर में हैं। हर एक किमी पर हेल्थ सेंटर बनाकर लोगों में लक्षणों की जांच हो रही है।

जयपुर: डोर टू डोर सैंपलिंग, क्लिनिक में दे सकते सैंपल

संवेदनशील रामगंज में डोर डू डोर सैंपलिंग हो रही है। पास-पास बने हेल्थ क्लिनिक में कोई भी जाकर सैंपल दे सकता है। अब तक 12 लाख से ज्यादा लोगों की स्क्रीनिंग हो गई है। 2 हजार से ज्यादा क्वारेंटाइन केंद्र में हैं। 8 हजार सैंपल लिए जा चुके हैं।

भोपाल: एक दिन में 2000 लोगों के सैंपल लेकर जांच

सबसे पहले कंटेनमेंट एरिया बनाकर स्क्रीनिंग की। 700 टीमों ने 9 दिन में साढ़े दस लाख से ज्यादा की स्क्रीनिंग कर संदिग्धों को आइसोलेट किया। मरीजों के मोबाइल नंबर से हिस्ट्री निकालकर नए मरीज ढूंढ रहे। एक दिन में अब 2 हजार तक सैंपल ले रहे हैं।

कासरगोड: कम्युनिटी पुलिस  24 घंटे कर रही निगरानी

मार्च में देश में तीसरे नंबर का शहर अब टॉप 10 में भी नहीं है। हर वार्ड में कम्युनिटी पुलिसमैन बनाए और सभी को होम क्वारेंटाइन किया। ये पुलिसमैन 24 घंटे नजर रख रहे, ताकि कोई भी बाहर नहीं आए। ट्रैवल हिस्ट्री लेकर सभी को क्वारेंटाइन कर दिया।

भीलवाड़ा: 4 हजार टीमों ने 23 लाख की स्क्रीनिंग की

यह शहर देश में स्क्रीनिंग और महामारी पर नियंत्रण का मॉडल बन गया है। प्रशासन ने चार हजार से अधिक टीमें बनाकर नौ दिन में 23 लाख से अधिक लोगों की स्क्रीनिंग की और संदिग्ध 1 हजार 450 लोगों को आइसोलेट कर दिया। हर संदिग्ध की जांच की गई।

इंदौर: सिर्फ 465 टीम, अब भी 7.50 लाख लोग बाकी

तीन हजार से ज्यादा सैंपल लिए हैं, पर कंटेनमेंट एरिया में डोर डू डोर सैंपलिंग नहीं हो रही। स्क्रीनिंग के लिए सिर्फ 465 टीमें हैं, जिसने 6 दिन में ढाई लाख लोगों की जांच की। अब साढ़े सात लाख की स्क्रीनिंग बाकी है, टीमें बढ़ाना होगी। 1700 लोग तो क्वारेंटाइन केंद्र में ही हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
मध्य प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा का ग्यारहवां दिन, कांग्रेस नेता की हार्ट अटैक से मौत राहुल गांधी की भारत जोड़ोे यात्रा का आगाज रविवार सेे राजस्थान में ,15 दिन में 7 जिले की 18 विधानसभा क... मुंबई में मलाड की बहुमंजिला इमारत में आग, बालकनी से कूदकर युवती ने बचाई जान पटरी से उछलकर खिड़की के रास्ते आई मौत, यात्री की गर्दन के आर पार हुआ सब्बल, कोच में मची चीख पुकार सीकर में गैंगस्टर राजू ठेहट को गोली मार दी,इलाके में दहशत,नेट बंद करने की तैयारी,,रोहित गोदारा ने ली... टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी की जनसभा से पहले बम विस्फोेट, तीन लोग की मौत भाग्य विधाता शनिदेव का मकर से कुंभ राशि में होे रहा प्रवेश ,, 5 राशियों में चलेगी शनि की साढेे़ साती... आज दिन शनिवार का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे मानव जीवन अनमोल है। इस जीवन को ईश्वर की शरण में लगाए - पंडित श्री शर्मा जी खिवनी अभ्यारण मैं अनुभूति कैंप के माध्यम से, बच्चो को जंगल से जोड़ने का प्रयास किया गया।विधायक शर्मा...