Rajhansh

तमिलनाडु में है 1200 साल पुराना वराह गुफा मंदिर हैं विष्णु का तीसरा अवतार

Header Top

तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले में वराह गुफा मंदिर है। ये चट्टानों को काटकर बनाया गया है। भगवान विष्णु के दस अवतारों में से तीसरे अवतार वराह का ये मंदिर महाबलीपुरम से करीब 8 किलोमीटर दूर है। शिलालेखों और एतिहासिक शोध के अनुसार ये मंंदिर 7र्वी शताब्दी का माना जाता है। इस मंदिर के इतिहास को देखते हुए इसे 1984 में यूनेस्कों द्वारा विश्व की महत्वपूर्ण एतिहासिक धरोहरों में भी शामिल किया गया है।

  • वराह गुफा मंदिर में मुख्य आकर्षण भगवान विष्णु की प्रतिमा है जो कि वराह के अवतार में है। मूर्ति उस पौराणिक घटना को बताती है जब धरती को बचाने के लिए भगवान विष्णु ने वराह यानी जंगली सूअर का रूप धारण किया था। भगवान विष्णु के रूप वराह ने अपने लंबे दांतों से पृथ्वी को जलमग्न होने से बचाया था। वरहा भगवान विष्ण के दशअवतार में गिने जाते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार जब राक्षस हिरण्याक्ष ने धरती पर पाप और आतंक मचाया था तब पृथ्वी जल में डूब गई थीं। उस समय भगवान विष्णु ने वराह का रूप धारण किया और राक्षस को मार कर धरती को बचाया था।

गुफा का इतिहास

ऐतिहासिक शोध के अनुसार पल्लव राजा नरसिंह वर्मन के समय में ममल्ला नाम के कारीगर ने चट्टानों को काटकर मंदिर और स्मारक बनाए थे। उसके पुत्र परमेश्वर वर्मन प्रथम ने भी इसी कार्य को करते हुए 650 ईस्वी के दौरान कई गुफाओं और रथ मंदिरों का निर्माण किया। इसके बाद करीब 7 वीं सदी में वराह गुफा मंदिर का भी निर्माण हुआ। इस गुफा मंदिर को कई नक्काशीदार स्तंभों पर बनाया गया है। जो द्रविड़ वास्तुकला को दर्शाती है।

प्रवेश द्वार के बिल्कुल विपरीत गुफा मंदिर की पिछली दीवार पर नक्काशी के साथ मूर्तियां बनाई गई हैं। मंदिर के अंदर की अन्य दीवारों पर भी कई खबसूरत मूर्तियां बनाई गई हैं। ये प्राचीन आकृतियां प्राकृतिक पल्लव कला को दर्शाती हैं। मंदिर की किनारे वाली दीवारों पर भगवान विष्णु की मूर्तियां बनाई गई हैं। यहां भगवान विष्ण के दशअवतार में से एक वराह को भी देखा जा  सकता है।

मंदिर की वास्तुकला

वराह गुफा एक पहाड़ी पर है। इसके सामने पत्थरों से बना एक मंडप है। गुफा का मुख पश्चिम की ओर है। इसकी लंबाई करीब 33 फिट और चौड़ाई 14 फीट के आसपास है। गुफा की ऊंचाई लगभग11.5 फीट है। गुफा के प्रवेशद्वार पर चार अष्टकोणीय खंभे और दो अष्टकोणीय आकार के भित्ती मौजूद है। वराह गुफा पूरी तरह चट्‌टानों को काटकर बनाया गया मंदिर है। इसका नक्काशीदार मंडप 7वीं शताब्दी का माना जाता है। गुफा के अंदर मूर्ति दृश्य बहुत ही खूबसूरत है। यहां भगवान विष्णु के वराह रूप को विशेषरूप से दर्शाया गया है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
दोबारा सेक्स करने से पत्नी ने किया मना तो पति ने उतारा मौत के घाट; थाने में दर्ज कराई लापता होने की ... प्यार का प्रपोजल छात्रा ने ठुकराया, तो एक तरफा प्यार में पागल प्रेमी ने सरेआम मारा चाकू, हमले की वार... एक दिवसीय प्रशिक्षण एवं निशुल्क मोतियाबिंद शिविर का हुआ आयोजन दिल दहलाने वाली घटना : पटरी पार करते वक्त ट्रेन आ गई, 3 साल के मासूम को बचाने मां ने फेंका, दोनों की... तन्मय को बचाना है: बैतूल में 66 घंटे से जिंदगी बचाने की जंग जारी, 3 फीट की दूरी बाकी, सुरंग से कभी भ... भीषण सड़क हादसा : ट्रक और लोडर की जबरदस्त टक्कर, 3 की दर्दनाक मौत harda big breaking : रेड फ्लावर स्कूल में छात्र हुआ बेहोश, छात्र की मौत ! अभिनेता मनोज बाजपेई की मां का 80 की उम्र में निधन, लंबे समय से चल रही थीं बीमार मना करने के बाद पत्नि टमाटर लेनेे पड़ोसी के घर जा रही थी पति ने डंडा मार कर दी हत्या अवैध कालोनियों को वैध करने का लालीपाप,, सीएम बोले करेंगें प्रक्रिया सरल और विकास शुल्क कम