Mjaghar

100 किमी पैदल चली 12 साल की बच्ची, CG के बीजापुर में घर से 14KM पहले तोड़ा दम

Header Top

बीजापुर. लॉकडाउन के कारण देशभर में कई लोगों के रोजगार छिन गए हैं। बड़े शहर गए लोग अपने गांव लौटना चाह रहे। इस आस में कि रूखी-सूखी ही सही, लेकिन दो वक्त राेटी का जुगाड़ हो सके। यही आस लिए तेलंगाना के पेरूर गांव से 12 साल की मासूम पैदल अपने छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के गांव आदेड़ के लिए चली। रास्ते में तबीयत बिगड़ गई, फिर भी तीन दिन में करीब 100 किमी का सफर पूरा किया। लेकिन अपने गांव से महज 14 किमी पहले बच्ची ने दम तोड़ दिया। उसके साथ गांव के 11 दूसरे लोग भी थे, लेकिन जंगल के रास्ते उसे किसी तरह का इलाज नहीं मिल सका।

साथ के लोग यही बता सके कि बच्ची के पेट में दर्द हो रहा था। बीजापुर के आदेड़ गांव की जमलो मड़कम अपने ही गांव के कुछ लोगों के साथ रोजगार की तलाश में दो महीने पहले तेलंगाना के पेरूर गांव गई हुई थी। वहां उन्हें मिर्ची तोड़ने का काम मिला। लाॅकडाउन में काम बंद हो गया, इन्होंने कुछ दिन तो वहीं बिताए। किसी तरह खाने-पीने का इंतजाम किया। लेकिन लॉकडाउन लंबा खिंचने के बाद इनके सामने रोटी का संकट खड़ा हाे गया, तब 16 अप्रैल को जमलो और गांव के 11 दूसरे लोग तेलंगाना से वापस बीजापुर के लिए पैदल ही निकले। दूसरे दिन जमलो की तबीयत बिगड़ी, किसी तरह 17 तारीख बीती, यह दल करीब 100 किमी चलकर 18 अप्रैल को मोदकपाल इलाके के भंडारपाल गांव के पास ही पहुंचा था कि जमलो ने दम तोड़ दिया। जमलो अपने माता-पिता की इकलौती संतान थी।

इकलौती बच्ची के लौटने का इंतजार था, घर पहुंची मौत की खबर
बच्ची की मौत की खबर मिलने के बाद प्रशासन की टीम गांव पहुंची। एहतियातन अन्य मजदूरों को क्वारैंटाइन किया गया है। उन्हीं लोगों में से किसी ने गांव पहुंचकर इकलौती बेटी की मौत की खबर दी तो पिता आंदोराम मड़कम और मां सुकमती जिला अस्पताल पहुंचे। सोमवार को बीजापुर में पोस्टमार्टम के बाद जमलो का शव माता-पिता को सौंपा दिया गया। पिता आंदोराम ने कहा कि उन्हें तो अपनी बेटी के लौटने का इंतजार था, लेकिन घर उसकी मौत की खबर पहुंची। साथ आए सभी लोगों को अलग रखा गया है, इसलिए यह भी नहीं पता चल सका है कि बच्ची को हुआ क्या था।

सभी ग्रामीण क्वारैंटाइन , बच्ची का सैंपल निगेटिव
सीएमएचओ डाॅ. बीआर पुजारी ने बताया कि बच्ची की मौत की सूचना मिलते ही उसका शव बीजापुर लाया गया। उसके साथ पैदल सफर कर रहे सभी मजदूरों को क्वारैंटाइन किया गया है। एहतियातन शव का कोरोना टेस्ट के लिए सैंपल भी भेजा गया। जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। ऐसा लग रहा कि इलेक्ट्रोलाइट इम्बैलेंस की कमी से बच्ची की मौत हुई है। हालांकि पीएम रिपोर्ट के बाद ही वजह पता चल पाएगी।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
सकरी सड़क होने से खेत में पलटी स्कूल बस, तीन बच्चे घायल, ग्रामीणों ने डेढ़ घंटे किया प्रदर्शन राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में सुरक्षाकर्मियों में बनी विवाद की स्थिति MP में लोकायुक्त की बड़ी कार्रवाई: आरआई 60 हजार रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार, सीमांकन के लिए मांग... एमपी में लव जिहादः अनवर ने अनु बनकर युवती से की दोस्ती, फिर दुष्कर्म कर धर्म परिवर्तन के लिए धमकाया,... पोर्न स्टार को दिल दे बैठे शादीशुदा सांसद, पत्नी ने कही ये बात… हवालात में 5 कैदी , 2 सिपाही को शराब पार्टी मनाते पकड़ा , भेेजा जेेल ''जेएनयू की दिवारों पर ब्राहमण ओर वेश्य के लिए जातिसूचक नारेे लिखे'' घटना बर्दाश्त नहीं की जा सकती-... रेलवे स्टेशन सेे सटी 4 दुुकानों में अलसुबह आग लगी,,लाखो का हुआ नुकसान सांई प्रसाद चिटफंड कंपनी के फरार डायरेक्टर ,शशांक बी भापकर को पुुलिस ने पकड़ा अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैे,,कांग्रेस विधायक की कार का कांच तोड़कर उनका लेपटाप ले उडे़.