Mjaghar

रविवार, 26 अप्रैल को Akshay-Tritya : कहा जाता है अबूझ मुहूर्त

Header Top

रविवार, 26 अप्रैल को वैशाख मास के शुक्लपक्ष की तृतीया तिथि है। इस तिथि को ही अक्षय तृतीया कहा जाता है। अबूझ मुहूर्त माना जाता है। इस तिथि पर सूर्य और चंद्र अपनी उच्च राशि में होते हैं। इसलिए इस दिन शादी, कारोबार की शुरूआत और गृह प्रवेश करने जैसे- मांगलिक काम बहुत शुभ रहते हैं। हालांकि कोरोना महामारी के कारण इस दिन किसी भी तरह के सामुहिक कार्यक्रम नहीं किए जाने चाहिए। ग्रंथों में भी इसका उल्लेख है।

  • तिथि और नक्षत्र के शुभ संयोग के कारण ये पर्व स्नान, दान और अन्य तरह के मांगलिक कामों को करने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। अक्षय तृतीया पर किए गए दान-धर्म का अक्षय यानी कभी नाश न होने वाला फल और पुण्य मिलता है। इसलिए हिन्दू धर्म में इस तिथि को दान-धर्म करने के लिए श्रेष्ठ समय माना गया है। इसे चिरंजीवी तिथि भी कहते हैं, क्योंकि इसी तिथि पर अष्टचिरंजीवियों में एक भगवान परशुराम का जन्म हुआ था।
  • वैशाख माह भगवान विष्णु की भक्ति के लिए भी काफी अधिक महत्व रखता है। ग्रंथों के अनुसार  इस माह की तृतीया तिथि यानी अक्षय तृतीया पर भगवान विष्णु के नर-नरायण, हयग्रीव और परशुराम अवतार हुए हैं। त्रेतायुग की शुरुआत भी इसी शुभ तिथि से मानी जाती है। इस दिन माता लक्ष्मी की विशेष पूजा करने की परंपरा है।

14 तरह के दान

इस तिथि पर किए गए दान और उसके फल का नाश नहीं होता। इस दिन 14 तरह के दान का महत्व बताया है। ये दान गौ, भूमि, तिल, स्वर्ण, घी, वस्त्र, धान्य, गुड़, चांदी, नमक, शहद, मटकी, खरबूजा और कन्या है। अगर ये न कर पाएं तो सभी तरह के रस और गर्मी के मौसम में उपयोगी चीजों का दान करना चाहिए। अक्षय तृतीया पर पितरों का श्राद्ध और ब्राह्मण भोजन कराने की भी परंपरा है।

अक्षय तृतीया से जुड़ी खास बातें

  1. अक्षय तृतीया पर्व पर तीर्थों और पवित्र नदियों में स्नान करने की परंपरा है। स्नान के बाद जरूरतमंद लोगों को दान दिया जाता है।
  2. इस तिथि पर भगवान विष्णु और उनके अवतारों की विशेष पूजा की जाती है। पितरों के लिए श्राद्ध कर्म किए जाते हैं।
  3. मान्यता है कि इस दिन किए गए दान-पुण्य से मिलने वाले फल अक्षय होता है यानी ये पुण्य हमेशा साथ रहता है।
  4. इस तिथि पर सोना-चांदी खरीदना शुभ माना गया है। देवताओं की प्रिय और पवित्र धातु होने से इस दिन सोने की खरीदारी का महत्व ज्यादा है।
  5. सतयुग और त्रेतायुग की शुरुआत भी इसी तिथि से हुई है, ऐसी मान्यता प्रचलित है। भगवान परशुराम का अवतार भी इसी दिन हुआ है। बद्रीनाथ के पट भी अक्षय तृतीया पर ही खुलते हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
मध्य प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा का ग्यारहवां दिन, कांग्रेस नेता की हार्ट अटैक से मौत राहुल गांधी की भारत जोड़ोे यात्रा का आगाज रविवार सेे राजस्थान में ,15 दिन में 7 जिले की 18 विधानसभा क... मुंबई में मलाड की बहुमंजिला इमारत में आग, बालकनी से कूदकर युवती ने बचाई जान पटरी से उछलकर खिड़की के रास्ते आई मौत, यात्री की गर्दन के आर पार हुआ सब्बल, कोच में मची चीख पुकार सीकर में गैंगस्टर राजू ठेहट को गोली मार दी,इलाके में दहशत,नेट बंद करने की तैयारी,,रोहित गोदारा ने ली... टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी की जनसभा से पहले बम विस्फोेट, तीन लोग की मौत भाग्य विधाता शनिदेव का मकर से कुंभ राशि में होे रहा प्रवेश ,, 5 राशियों में चलेगी शनि की साढेे़ साती... आज दिन शनिवार का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे मानव जीवन अनमोल है। इस जीवन को ईश्वर की शरण में लगाए - पंडित श्री शर्मा जी खिवनी अभ्यारण मैं अनुभूति कैंप के माध्यम से, बच्चो को जंगल से जोड़ने का प्रयास किया गया।विधायक शर्मा...