Rajhansh

सबरीमाला मंदिर के आज खुलेंगे कपाट, महिलाओं को रोकने के लिए जुटे कई संगठन

Header Top

सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद आज पहली बार मंदिर के कपाट मासिक पूजा के बाद खुलेंगे। लेकिन कई संगठनों की ओर से फैसले के विरोध के कारण क्षेत्र में तनाव की स्थिति है। फैसले का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को मंदिर की ओर आ रहे वाहनों की जांच शुरू की। उन्होंने प्रतिबंधित उम्र की महिलाओं को लेकर मंदिर की ओर से जाने वाले वाहनों को रोक दिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, प्रदर्शनकारी मंदिर जाने के रास्ते में स्थित निलाकर बेस कैंप पर डेरा डाले हुए हैं और महिलाओं को पंबा की ओर भी नहीं जाने दे रहे हैं, जहां तक पहले महिलाओं को जाने की इजाजत थी। पहाड़ी पर स्थिति सबरीमाला मंदिर से करीब 20 किमी. दूर स्थित शिविर में परंपरागत साड़ी पहने महिलाओं के समूह को प्रत्येक वाहनों को रोका जा रहा है। इनमें वरिष्ठ नागरिक भी शामिल हैं। निजी वाहनों के अलावा श्रद्धालुओं ने केरल राज्य पथ परिवहन निगम की बसें भी रोकीं और उनमें से युवतियों को बाहर निकलने को कहा।

एक महिला आंदोलनकारी ने कहा, प्रतिबंधित 10 से 50 वर्ष की आयु की महिलाओं को निलाकल से आगे नहीं जाने दिया जाएगा और उन्हें मंदिर में पूजा नहीं करने दी जाएगी। मंदिर को मलयालम थुलाम महीने में पांच दिन की मासिक पूजा कि लिए खोला जा रहा है। 22 अक्तूबर को इस मंदिर के कपाट फिर से बंद हो जाएंगे। केरल सरकार ने साफ किया है कि वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करने को प्रतिबद्ध है।

Ashara Computer

मुख्यमंत्री पी. विजयन ने कहा कि किसी को बी कानून व्यवस्था को हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जाएगी। साथ ही राज्य सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुर्नविचार याचिका दाखिल नहीं करने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि कोर्ट के आदेश को उसी स्वरूप में लागू करेगी।

बता दें कि सबरीमाला मंदिर पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का बड़ी संख्या में केरल की महिलाएं विरोध कर रही हैं और उन्होंने जगह-जगह विरोध मार्च निकाला है। इसी कड़ी में मंगलवार को एक महिला ने सार्वजनिक रूस से फांसी लगाने की कोशिश की। हालांकि, वहां खड़े लोगों ने उसे रोक दिया। कोर्ट के आदेश का विरोध कर रही शिवसेना की महिला कार्यकर्ताओं ने भी घोषणा की है कि अगर बुधवार को प्रतिबंधित आयुवर्ग की महिलाएं मंदिर में प्रवेश की कोशिश करेंगी, तो वे सामूहिक रूप से आत्महत्या करेंगी।
उल्लेखनीय है कि इस फैसले के खिलाफ ही कई संगठनों ने कोर्ट का रुख किया है। इसमें नेशनल अयप्पा डिवोटीज एसोसिएशन की अध्यक्ष शैलजा विजयन पमुख हैं। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने इस पर त्वरित सुनवाई से इनकार कर दिया है। ऑल केरल ब्राह्मण एसोसिएशन ने भी फैसले पर फिर से विचार करने की अपील की है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
चक्रवाती तूूफान मैंडूस ने दक्षिण भारत में मचाई तबाही ,स्कूल - कालेज,सड़क - हवाई यातयात बंद, निचले क्ष... आज दिन शनिवार का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे हरदा में 430 मिलीग्राम एमडी ड्रग्स जब्त, पुलिस ने एक युवक को पकड़ा ! गौ माता का रथ ले जाकर जगह-जगह विभिन्न प्रकार की खाद्य सामग्री गो भक्तों के श्रद्धा अनुसार दी गई प्रेसक्लब मनावर द्वारा निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन 11 दिसम्बर को harda breaking news : अज्ञात कारणों के चलते 23 वर्षीय युवती ने खाया जहरीला पदार्थ, ईलाज के दौरान मौत ग्राम सिरकम्बा में क्लस्टर स्तरीय क्रेडिट कैम्प सम्पन्न सहकारिता मंत्री श्री भदोरिया ने कलेक्टर व एसपी से नवाचारों की जानकारी ली harda : पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की जनसभा को लेकर जिला कांग्रेस कार्यालय में बैठक हुई संपन्न दोबारा सेक्स करने से पत्नी ने किया मना तो पति ने उतारा मौत के घाट; थाने में दर्ज कराई लापता होने की ...