banner add
banner ad 11

पाक की 6 साल की जैनब को मिला इंसाफ, दोषी को हुई फांसी

Header Top

इस्लामाबादः पाकिस्तान में छह वर्षीय जैनब अमीन के साथ बलात्कार और हत्या के मामले में दोषियों को कड़ी सजा देते हुए अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी जिसके बाद  बुधवार को  इमरान अली को लाहौर के कोट लखपत केंद्रीय जेल में फांसी दी गई। मजिस्ट्रेट आदिल सरवर और मृतका के पिता मोहम्मद अमीन, दोनों की उपस्थिति में इमरान अली को फांसी दी गई है। दोनों सुबह कोट लखपत जेल में पहुंचे थे। जैनब के अंकल भी कोट लखपत जेल मौजूद रहे। इस दौरान कोट लखपत जेल में एक एम्बुलेंस भी पहुंची थी जिसमें जिसमें दोषी का एक भाई के साथ-साथ उसके दो दोस्त भी थे।
जैनब के पिता ने किया अभार व्यक्त 
अली को फांसी की सजा देने के दौरान कोट लखपत जेल के चारों ओर दंगा-निरोधक बल और पुलिस की चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था रही।  जैनब के पिता अमीन अंसारी ने अली की फांसी के बाद मीडिया से बात करते हुए पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश का आभार वयक्त किया और कहा कि न्याय मिला है।उन्होंने खेद व्यक्त किया कि अधिकारियों ने फांसी की सजा का सीधा प्रसारण करने की अनुमति नहीं दी।
जेल प्रशासन ने की थी कड़ी व्यवस्था 
फांसी के बाद अली के परिवार को उसका शव कसुर ले जान के लिए सौंप दिया, उनके साथ पुलिस की एक टुकड़ी भेजी गई।  जेल प्रशासन ने मंगलवार शाम को अली से 57 रिश्तेदारों की मिलने की व्यवस्था करवाई।
इस वर्ष जनवरी में हुई थी घटना
बता दें कि इमरान अली ने कसूर की एक नाबालिग लड़की को जनवरी में ट्यूशन सेंटर के रास्ते से अगवा कर लिया था। उसके गायब होने के कुछ दिन बाद उसका शव एक कचरा डंप बॉक्स में बरामद हुआ था। जांच के बाद पता चला कि लड़की का रेप कर उसे मार डाला गया था। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार नाबालिग लड़की को मारने से पहले उसके साथ कई बार बलात्कार किया गया था। इस घटना के पाकिस्तान उबल पड़ा था और कसूर सहित अन्य प्रमुख शहरों में बड़े विरोध प्रदर्शन किए। बाद में पुलिस ने इमरान अली को नाबालिग के रेप और मर्डर के मामले में अरेस्ट किया।

9 लड़कियों से रेप के जर्म कबूला
इमरान अली ने जैनब अंसारी समेत नौ लड़कियों से बलात्कार करने का गुनाह कबूल किया था। एटीसी ने इमरान अली को नाबालिग लड़की के यौन उत्पीड़न करने का दोषी पाया। दोषी ने पहले लाहौर उच्च न्यायालय में अपील की थी कि और कहा था कि उसके खिलाफ दी गई सजा को ख़ारिज कर दिया जाए। लेकिन लाहौर उच्च न्यायालय ने उसकी याचिका खारिज कर दी थी। उसके बाद जून में पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने नाबालिग के साथ क्रूर बलात्कार और हत्या के लिए इमरान अली को दी गई मौत की सजा पर मुहर लगते हुए कहा कि समज में ऐसे लोगों को जीने का कोई हक नहीं है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
विवादित बयान से संविधान का अपमान ? गेस्ट हाउस में चल रहा था देह व्यापार, आपत्तिजनक हालत में 3 जोड़े गिरफ्तार, संचालक फरार राजगढ़ जिले में दो दिवस में विकास यात्राओं में 710 लाख के विकास कार्यो का लोकार्पण एवं 641 लाख के विक... लोक सेवा गारंटी अंतर्गत सेवाओं को समय-सीमा में शिकायतों का निराकरण नहीं करने पर चार अधिकारियों पर लग... संत रविदास जयंती के उपलक्ष में हुआ कार्यक्रम का भव्य आयोजन, सिराली के मुख्य मार्गो से निकली शोभायात्... मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी हरदा ने दस्तक अभियान का किया शुभारंभ harda : आत्माराम की खुशी का आज ठिकाना न था, विकास यात्रा में पक्के मकान में परिवार सहित किया गृह प्र... टिमरनी विधानसभा के ग्रामीण क्षेत्रों में पहुँची ‘‘विकास यात्रा’’ harda : रमेश का सपना हुआ साकार विकास यात्रा में मिली पक्के मकान की सौगात मुख्यमंत्री चौहान ने सिंगल क्लिक के माध्यम लाड़ली लक्ष्मियों के खाते मे छात्रवृत्ति की राशि ट्रांसफर ...