ब्रेकिंग
कैसे करें ट्वीटर स्पेस रिकॉर्ड और शेयर, जानिए स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस विराट कोहली ने राहुल द्रविड़ की वजह से छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, इस पाकिस्तानी क्रिकेटर ने किया दा... विदेशी धरती पर वनडे में सबसे ज्यादा रन बनाने से सिर्फ इतने रन पीछे हैं कोहली, टूट जाएगा तेंदुलकर का ... जमुई से विशेष छापेमारी अभियान में छह क्विंटल महुआ बरामद, पुलिस ने किया नष्ट बिहार में 24 घंटे में कोरोना संक्रमित 5 और लोगों की मौत, पटना में मिले सबसे अधिक 1035 मामले नालंदाः जहरीली शराब से अब तक 13 लोगों की मौत, 62 घरों को किया गया चिन्हित, नोटिस चस्पा बेटे को टिकट दिलाने के लिए रीता बहुगुणा जोशी ने सांसदी से दिया इस्तीफे का प्रस्ताव- नड्डा को लिखा प... पद्मश्री से सम्मानित 'किसान चाची' की अचानक बिगड़ी तबीयत... अस्पताल में भर्ती, हालत चिंताजनक असम CM बोले- कोरोना वैक्सीन न लगवाने वाले सार्वजनिक जगहों पर नहीं जा सकेंगे...वो घरों में ही रहें पुलिस के पैरो तले निकली जमीन, जब अस्पताल में दफन मिली भ्रूण की 12 खोपड़ी और 54 हड्डियां

चुनाव नजदीक होने के कारण अब राम मंदिर मुद्दा उठाया जा रहा है: तोगड़िया

वडोदरा: राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत की अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए एक कानून बनाए जाने की मांग के बाद तेजतर्रार हिंदू नेता प्रवीण तोगड़िया ने सवाल उठाया कि भाजपा सरकार के पिछले साढ़े चार वर्षों के कार्यकाल में ऐसा कानून क्यों नहीं लाया गया। तोगडिय़ा ने आरोप लगाया कि आरएसएस अब यह मुद्दा उठा रही है क्योंकि चुनाव नजदीक है और भाजपा सरकार का प्रदर्शन निराशाजनक है। भागवत ने गुरूवार को नागपुर में अपने सालाना विजयदशमी समारोह में मांग की कि केन्द्र को राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने के लिए एक कानून लाना चाहिए।

राम मंदिर कानून के लिए क्यो हुई साढ़े चार सालों तक देरी? 
अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के प्रमुख तोगड़िया ने एक बयान में कहा,‘‘भाजपा के संसद में पूर्ण बहुमत होने के बावजूद राम मंदिर कानून के लिए साढ़े चार सालों तक देरी क्यों हुई?’’  उन्होंने कहा,‘‘केन्द्र में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार के सभी मोर्चो पर विफल रहने और कई राज्यों और 2019 में लोकसभा चुनाव होने के मद्देनजर राम मंदिर का मुद्दा उठाया जा रहा है।’’ भाजपा को ‘‘आरएसएस की पार्टी’’ कहते हुए उन्होंने कहा कि केन्द्र और राज्यों में उसकी सरकारें ‘‘कथित विकास के लगभग सभी वादों पर लडख़ड़ा’’ गई है।

 मूल संगठन अब कर रहे हैं भगवान राम को याद 
उन्होंने बयान में कहा,‘‘समाज के कई वर्ग उसकी अचानक लाई गई नीतियों के कारण खिन्न हैं और इसलिए पार्टी तथा उसका मूल संगठन भगवान राम को अब याद कर रहे हैं।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि इससे पहले जो भगवान राम मंदिर के लिए कानून लाए जाने का दबाव बना रहे थे, वे अब चुप हैं।  तोगडिय़ा ने दावा किया,‘‘अक्टूबर 2017 में हमारे साथ भोपाल में आरएसएस द्वारा बुलाई गई एक विशेष बैठक में, हमें स्पष्ट रूप से संसद में राम मंदिर कानून पर चुप रहने के लिए कहा गया था।’’ उन्होंने कहा,‘‘कानून की मांग के लिए, मुझे और (अन्य) राम (मंदिर) कानून समर्थकों को उसी संगठन द्वारा दंडित किया गया था।’’ उन्होंने मांग की कि केन्द्र को राम मंदिर के लिए तत्काल एक अध्यादेश लाना चाहिए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!