Mjaghar

इस काम के लिए भूल से भी मना न करें

Header Top

महाभारत काल का एक प्रसंग है। धर्मराज युधिष्ठिर के समीप कोई ब्राह्मण याचना करने आया। महाराज युधिष्ठिर उस समय राज्य के कार्य में बहुत व्यस्त थे। उन्होंने नम्रतापूर्वक ब्राह्मण से कहा, ‘‘भगवन! आप कल पधारें, आपको अभीष्ट वस्तु प्रदान की जाएगी।’’
ब्राह्मण तो चला गया, किंतु भीमसेन उठे और लगे राजसभा के द्वार पर रखी दुन्दुभि बजाने। उन्होंने सेवकों को भी मंगलवाद्य बजाने की आज्ञा दे दी। असमय मंगलवाद्य बजने का शब्द सुनकर धर्मराज ने पूछा, ‘‘आज इस समय मंगलवाद्य क्यों बज रहे हैं?’’ सेवक ने पता लगाकर बताया, ‘‘भीमसेन जी ने ऐसा करने की आज्ञा दी है और वह स्वयं भी दुन्दुभि बजा रहे हैं?’’ भीमसेन जी बुलाए गए तो बोले, ‘‘महाराज ने काल को जीत लिया, इससे बड़ा मंगल का समय और क्या होगा?’’
‘‘मैंने काल को जीत लिया?’’ युधिष्ठिर चकित हो गए।
भीमसेन ने बात स्पष्ट की, ‘‘महाराज! विश्व जानता है कि आपके मुख से हंसी में भी झूठी बात नहीं निकलती। आपने याचक ब्राह्मण को अभीष्ट दान कल देने को कहा है, इसलिए कम-से-कम कल तक तो अवश्य काल पर आपका अधिकार होगा ही।’’ अब युधिष्ठिर को अपनी भूल का बोध हुआ। वह बोले, ‘‘भैया भीम! तुमने आज मुझे उचित सावधान किया। पुण्य कार्य तत्काल करना चाहिए। उसे पीछे के लिए टालना ही भूल है। उन ब्राह्मण देवता को अभी बुलाओ।’’ महाराज युधिष्ठिर ने तत्क्षण याचक को बुलवाया और उसे समुचित दान देकर अपनी भूल का परिमार्जन किया।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
मंत्री के बेटे का दुल्हन करती रही इंतजार, नहीं पहुंची बारात, लड़की के पिता ने खेत बेचकर दहेज के लिए ख... मध्य प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा का ग्यारहवां दिन, कांग्रेस नेता की हार्ट अटैक से मौत राहुल गांधी की भारत जोड़ोे यात्रा का आगाज रविवार सेे राजस्थान में ,15 दिन में 7 जिले की 18 विधानसभा क... मुंबई में मलाड की बहुमंजिला इमारत में आग, बालकनी से कूदकर युवती ने बचाई जान पटरी से उछलकर खिड़की के रास्ते आई मौत, यात्री की गर्दन के आर पार हुआ सब्बल, कोच में मची चीख पुकार सीकर में गैंगस्टर राजू ठेहट को गोली मार दी,इलाके में दहशत,नेट बंद करने की तैयारी,,रोहित गोदारा ने ली... टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी की जनसभा से पहले बम विस्फोेट, तीन लोग की मौत भाग्य विधाता शनिदेव का मकर से कुंभ राशि में होे रहा प्रवेश ,, 5 राशियों में चलेगी शनि की साढेे़ साती... आज दिन शनिवार का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे मानव जीवन अनमोल है। इस जीवन को ईश्वर की शरण में लगाए - पंडित श्री शर्मा जी