ब्रेकिंग
आज दिन शुक्रवार का राशिफल जानिये आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे MP BIG NEWS: मृतक को 8 माह बाद लगा वैक्सीन का  दूसरा डोज़ ! सनसनीखेज घटना हत्या के 12 घण्टे मैं खुलासा कर पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार। अचानक गिर गया बिजली का खंबा, आधे गॉव की बिजली गुल मित्रता श्रीकृष्ण और सुदामा जैसी होनी चाहिये,- कथा वाचक पं. विद्याधर उपाध्याय हरदा कांग्रेस नेता केदार सिरोही ने किया मुख्यमंत्री को चैलेंज ! पहले भाजपाईयों पर हो FIR दर्ज, कांग्रेसियों ने राज्यपाल के नाम तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन, प्रेस वार्त... दिल्ली में सस्ता हुआ कोरोना टेस्ट- RT-PCR के देने होंगे सिर्फ 300 रुपये साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने गिनाए शराब पीने के फायदे! बोलीं- थोड़ी पीने से शराब औषधि का काम करती है दिल्ली में पिछले 24 घंटों में आए 13 हजार से कम कोरोना मामले, 43 मरीजों की मौत

संपादकीय : दिशाहीन कांग्रेस

सोनिया गांधी की ओर से बुलाई गई बैठक से जैसी खबरें छनकर बाहर आईं, उनसे इसी बात की पुष्टि होती है कि कांग्रेस न केवल दिशाहीनता से ग्रस्त है, बल्कि पुरानी और नई पीढ़ी के नेताओं में बन भी नहीं रही। चूंकि पुरानी पीढ़ी के नेता सोनिया गांधी के करीबी माने जा रहे और नई पीढ़ी के नेता राहुल गांधी के, इसलिए यह भी लगता है कि कांग्रेस एक तरह की खेमेबाजी से भी ग्रस्त है।
इसका संकेत राजस्थान कांग्रेस के संकट से भी मिलता है। इससे बड़ी विडंबना और कोई नहीं कि कांग्रेस यह नहीं तय कर पा रही है कि उसे अपनी पराजय पर आत्ममंथन कैसे करना चाहिए। जिस तरह यह सवाल उठा कि क्या कांग्रेस की पराजय के लिए संप्रग सरकार जिम्मेदार है, उससे तो यही पता चलता है कि एक बेहद जरूरी सवाल की अनदेखी की जा रही है। हालांकि 2014 के लोकसभा चुनावों में पार्टी की करारी हार के कारणों का पता लगाने के लिए एके एंटनी के नेतृत्व में एक समिति गठित की गई थी, लेकिन कोई नहीं जानता कि उसकी रपट पर कोई विचार क्यों नहीं हुआ? यदि विचार हुआ होता तो शायद कांग्रेस अपनी उन गलतियों को ठीक कर पाती, जिनके चलते उसे ऐतिहासिक पराजय का सामना करना पड़ा।
कांग्रेस अपनी दुर्दशा को लेकर चाहे जैसे आत्ममंथन करे या फिर न करे, लेकिन यदि यह मानकर चला जा रहा कि गलतियां केवल संप्रग शासन के दौरान हुईं तो इसका मतलब है कि दीवार पर लिखी इबारत पढ़ने से इन्कार किया जा रहा है। सच तो यह है कि गलतियां सत्ता से बाहर होने के बाद भी हुईं और इसी कारण 2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी को शर्मनाक पराजय से दो-चार होना पड़ा। यदि 2014 की हार के लिए मनमोहन सिंह और सोनिया गांधी जिम्मेदार हैं तो 2019 की पराजय की जिम्मेदारी राहुल गांधी को लेनी होगी।
कांग्रेस की बैठक में जिस तरह यह मांग उठी कि राहुल गांधी को फिर से अध्यक्ष बनाया जाए, उससे यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि क्या पार्टी के पास और कोई सक्षम नेता नहीं? यदि राहुल को फिर पार्टी अध्यक्ष बनाने की जरूरत आ गई है तो फिर उन्होंने यह पद छोड़ा ही क्यों था? जो कांग्रेसी नेता यह रेखांकित कर राहुल को फिर अध्यक्ष बनाना चाह रहे हैं कि वह बहुत मेहनत कर रहे हैं, वे शायद यह समझने को तैयार नहीं कि निरर्थक मेहनत का कोई मतलब नहीं होता। वास्तव में कांग्रेस की समस्या केवल यह नहीं कि वह अपनी गलतियों पर गौर करने को तैयार नहीं, बल्कि यह भी है कि वह परिवार से आगे और कुछ देखने की दृष्टि खो चुकी है।
Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!