ब्रेकिंग
HARDA BIG NEWS: स्कूल की छात्रा से मनचले दो युवको ने की छेड़छाड़, रास्ता रोका बोला में तुमसे शादी करना... स्वस्थ शिशु प्रतियोगिता हुई आयोजित, पैरंट्स को दिए टिप्स चांदनी चौक मित्र मंडल द्वारा भव्य पंडाल में माँ दुर्गा की स्थापना, होंगे रास गरबा धार्मिक नगरी में नवरात्र की धूम : पहले दिन पांडालों में विराजी मां दुर्गा की प्रतिमाएं अम्बा में सांसद विधायक ने नलजल योजना का भूमिपूजन व सेवा सहकारी संस्था भवन का किया लोकार्पण देवतालाब में क्लस्टर स्तरीय क्रेडिट कैंप संपन्न स्वस्थ बालक बालिका स्पर्धा सम्पन्न पी.एम. सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना के तहत मिलेगी आर्थिक सहायता टंट्या मामा आर्थिक कल्याण योजना में मिलेगा 1 लाख रूपये तक का ऋण सीएम हेल्पलाइन में उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी सम्मानित

जानिए, कब है श्राद्ध अमावस्या

Header Top

सर्व पितृ श्राद्ध अमावस्या 8 अक्टूबर सोमवार को दोपहर 11.34 मिनट पर शुरू होगी जो 9 अक्टूबर मंगलवार को सुबह 9.18 तक रहेगी। मान्यता के अनुसार अमावस्या पर सभी पितर धरती पर आते हैं। सर्व पितृ श्राद्ध अमावस्या 8 अक्टूबर सोमवार को दोपहर 11.34 मिनट पर शुरू होगी जो 9 अक्टूबर मंगलवार को सुबह 9.18 तक रहेगी जिन जातकों को अपने पूर्वजों की मृत्यु तिथि ज्ञात न हो अथवा किसी का श्राद्ध भूल गए हों तो भूले-चूकों का श्राद्ध करके पितरों को प्रसन्न कर वरदान प्राप्त कर सकते हैं।
प्रसिद्ध तीर्थ स्थान च्यवन ऋषि की तपस्यास्थली ढोसी नजदीक नारनौल (हरियाणा), गयाजी (बिहार), संगम (इलाहाबाद), हरिद्वार में पितरों के नाम से गंगा-स्नान करके धूप, दीपक जलाएं तथा 16 पितरों की पत्तल पर खीर-पूरी, इमरती, दही-बड़े, बर्फी, काले तिल रख कर, हाथ में चावल, पुष्प, जल व दक्षिणा लेकर संकल्प करें और गणेश, पूजन, विष्णु, पीपल का पूजन करें। पीपल को जल चढ़ाएं, पंचामृत चढ़ाकर गंगाजल से स्नान कराएं, मौली लपेटें, जनेऊ अर्पण करके, लघु श्रीफल अर्पण करके तिलक कर पुष्प चढ़ाएं, धूप-दीप, नैवेद्य, खीर, इमरती का भोग लगाएं। फल चढ़ाकर दक्षिणा अर्पण कर नमस्कार करें। इसके बाद खड़े होकर पीपल पर सूत लपेटते हुए सर्व पितर दोष निवारण मंत्र का जाप करते हुए परिक्रमा करें और अपने पितरों को हृदय से नमस्कार करें। ब्राह्मण को भोजन कराकर दक्षिणा व गौदान देकर प्रसन्न कर अपने पितरों का दिव्य आशीर्वाद प्राप्त करें तथा अपने पितरों को विदा करें।
दान वस्तु
चावल, एक-एक पाव जौ, चीनी, उड़द, मूंग, मसूर, चने की दाल, बाजरा, दही, खीर, मिठाई तथा सफेद वस्त्र, फल, पुस्तक, घी, चांदी-सोना आदि वस्तुओं का संकल्प करके पीपल वृक्ष के नीचे ही किसी जरूरतमंद (अंध-विद्यालय, कुष्ठाश्रम, वृद्धाश्रम, अनाथाश्रम, गौशाला)या विद्वान ब्राह्मण को श्रद्धापूर्वक दान कर देना चाहिए। पत्नी के कारण गृह- क्लेश हो तो गौरी-शंकर रुद्राक्ष धारण करें।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!