Mjaghar

गोलियां चलती रहीं, पत्थर बरसते रहे, पर शाहनवाज ने नहीं छोड़ा फुटबॉल खेलना

Header Top

नई दिल्लीः कश्मीर की युवा पीढ़ी जहां गोलियों के साए में सहमे रहते हैं आैर पैसों की की खातिह हाथों में पत्थर थाम लेते हैं, वहां कुछ ऐसे युवा भी हैं जो इन चीजों के दूर होकर कुछ कर गुजरने की सोचते हैं। इन्हीं में से एक हैं फुटबाॅलर शाहनवाज बशीर।

आई लीग में पदार्पण करने जा रही रीयल कश्मीर एफसी का यह मिडफील्डर किसी भी सूरत में फुटबाल के मैदान पर कामयाबी हासिल करने का अपना सपना पूरा करना चाहता है । भले ही इसके लिये उसे अपने जीवन में छोटी छोटी खुशियों से महरूम होना पड़े । स्काटलैंड के डेविड राबर्टसन के मार्गदर्शन में अभ्यास में जुटी रीयल कश्मीर ने इस साल द्वितीय श्रेणी लीग जीतकर इतिहास रच दिया ।

भारत में अक्सर खेल को सरकारी नौकरी पाने का जरिया माना जाता है लेकिन बशीर को खेल में कैरियर बनाने से काफी पहले ही सरकारी नौकरी मिल चुकी थी। बशीर ने प्रेस ट्रस्ट से कहा ,‘‘ मैं श्रीनगर में महालेखापाल के कार्यालय में वरिष्ठ लेखापाल हूं । ड्यूटी का समय 9 से 5 तक है लेकिन मुझे कुछ रियायत मिल जाती है । मैं एक घंटा देर से जा सकता हूं । महालेखापाल ने मुझे इसकी अनुमति दी है क्योंकि उन्हें कश्मीर में फुटबाल के क्रेज और इसके सकारात्मक असर का इल्म है ।’’ उसने कहा ,‘‘ मैं टीम के साथ सुबह आठ से दस तक अभ्यास करता हूं और फिर दफ्तर आता हूं । शाम को साढे पांच या छह बजे तक रूकता हूं । यह कठिन है लेकिन मैं खुश हूं ।’’

Ashara Computer

दूसरों के घर से मांगना पड़ते थे जूते
बशीर की माली हालत अब ठीक है लेकिन बचपन में उसने काफी तंगी का सामना किया है । उसने बताया ,‘‘ मेरे वालिद छोटे मोटे व्यापारी है और मां गृहिणी है । मेरे पास अपनी फुटबाल या जूते नहीं थे । मुझे दूसरों से मांगने पड़ते थे । मेरे पिता ने मेरे फुटबाल खेलने का विरोध नहीं किया लेकिन मां को लगता था कि इससे मेरा कुछ भला नहीं होगा । मैने जम्मू कश्मीर बैंक की फुटबाल अकादमी में खेलना शुरू किया । इसके बाद तीन साल तक लोनस्टार कश्मीर के लिये खेलता रहा ।’’

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
हरदा - नवजात बालिका की हत्या मामले में CBI जांच की मांग , हाईकोर्ट में लगाई न्याय की गुहार हंडिया : गांव-गांव जाकर प्रस्तुति दे रहे काठी लोकनृत्य के कलाकार मध्‍य प्रदेश के बैतूल जिले में बोरवेल में गिरा बच्‍चा, 50 फीट गहराई में फंसा, बचाव कार्य आरंभ एबी रोड पर हुआ हादसा, कार के उड़े परखच्चे, एक की मौत HARDA NEWS : SP मनीष अग्रवाल ने 2 आरोपियों पर 3 हजार रूपये का इनाम किया घोषित जिला स्तरीय दो दिवसीय कृषक प्रशिक्षण कार्यक्रम सम्पन्न harda news : कलेक्टर ने एक आरोपी को किया जिला बदर होमगार्ड का स्थापना दिवस मनाया गया फलों के रस पर आधारित वाइन उत्पादन करने वाला पहला जिला बनेगा ‘हरदा’ harda news : कलेक्टर श्री गर्ग ने जनसुनवाई में सुनी समस्याएं और कराया निराकरण