goverment Ad
Goverment ad2

अगले तीन महीने में कितने रंग लाएगी किसान राजनीति

Header Top

नई दिल्ली: विभिन्न मांग के समर्थन में किसानों के प्रदर्शन के दौरान हुई पुलिस कार्रवाई के विरोध के बहाने विपक्षी दल अब मोदी सरकार को घेरने में जुट गए हैं। विपक्षी पार्टियों ने न केवल आंदोलनरत किसानों पर पुलिस कार्रवाई को बर्बरतापूर्ण कार्रवाई बताया है बल्कि उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए साफ तौर पर कहा कि सल्तनत का बादशाह सत्ता के नशे में है। माना जा रहा है कि यह सब बातें 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए अभी से मोदी सरकार के विरुद्ध जमीन तैयार करने की कोशिश है। साथ ही इसका असर आने वाले महीनों में राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ व कई अन्य राज्यों में चुनाव पर भी पडऩा तय माना जा रहा है।
जानकारों की मानें तो इस खतरे को भांपते हुए संघ ने भी मोदी सरकार को चेताया था और शायद यही वजह भी थी कि खुद भाजपा सरकार ने बजट में किसानों के लिए इस बार अलग से घोषणा की थी। लेकिन इन सब बातों के बावजूद किसानों की नाराजगी लगातार बढ़ती गई है। यह भी समझा जा रहा है कि सरकार भी किसानों को प्रदर्शन समाप्त करने के लिए मनाने के तरीके में यदि सफल हो गई तो उसके लिए भी यह चुनावी बैतरणी पार करने का यह एक अच्छा अवसर साबित हो सकता है।
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा पर अंतरराष्ट्रीय अङ्क्षहसा दिवस के दिन दिल्ली सीमा पर किसानों की बर्बर पिटाई का आरोप लगाया और सवाल किया कि वे राष्ट्रीय राजधानी में अपनी शिकायत का जिक्र भी नहीं कर सकते। उन्होंने ङ्क्षहदी में ट््वीट किया कि विश्व अङ्क्षहसा दिवस पर भाजपा का दो-वर्षीय गांधी जयंती समारोह शांतिपूर्वक दिल्ली आ रहे किसानों की बर्बर पिटाई से शुरू हुआ। अब किसान देश की राजधानी आकर अपना दर्द भी नहीं सुना सकते। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सल्तनत का बादशाह सत्ता के नशे में है।  सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदर्शनकारी किसानों को समर्थन देते हुए आरोप लगाया कि ईंधन के बढ़े दाम और जीएसटी, नोटबंदी के कारण कृषक समुदाय बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। इसलिए वे अपनी मांग को लेकर सड़कों पर हैं।

वहीं आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कहा कि शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर भाजपा की सरकार द्वारा वाटर केनन और आंसु गैस का प्रयोग करना बेहद शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जन्मदिन पर किसानों पर हमले से मोदी सरकार का शासन इतिहास में बड़े उद्योगपतियों के लिए सुनहरी अवधि के रूप में गिना जाएगा। इससे पूर्व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी अपने ट्वीट के जरिये कहा कि किसानों के विरोध मार्च को राजधानी में प्रवेश से रोकना गलत है। उन्होंने शहर में किसानों को प्रवेश देने की वकालत की। उनके ही सुर में सुर मिलाते हुए राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने अपने ट्वीट में कहा कि मोदी जी, माना किसान पूंजीपतियों की तरह आपकी जेबें नहीं भर सकते लेकिन कम से कम उनके सिर पर डंडे तो मत मरवाइए। अगर आपने गरीबी देखी होती तो किसानों पर इतने जुल्म नहीं करते।

Shreegrah

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
Big News : फिल्मी स्टाइल में बड़ी लूट, पैट्रोल पंप कर्मियों से गुंडों ने बंदूक की नोक पर लूटे 40 लाख... हरदा : अज्ञात आरोपियों पर 5-5 हजार रूपये का इनाम घोषित हरदा : युवा अन्नदूत योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन 31 मई तक जमा करें हरदा : ’‘मुख्यमंत्री सीखो कमाओं योजना’ के तहत युवाओं को 10 हजार रुपए तक मिलेंगे हरदा : खुशियों की दास्तां, घर में नल से जल आने लगा तो बलीराम की समस्या हल हुई हरदा : ‘जीवनम् स्वास्थ्य शिविर’ 30 मई को रन्हाईकला में आयोजित होगा हरदा : खुशियों की दास्तां ‘‘जल जीवन मिशन’’ की मदद से भागवती बाई को घर बैठे मिल रहा भरपूर पानी हरदा :... हरदा : 23 जून तक बीएलओ घर-घर जाकर मतदाताओं का सर्वे करेंगे हरदा : भाटपरेटिया, सामरधा व मुहालकला में 30 मई को समरसता शिविर आयोजित होंगे हरदा : कृषि मंत्री श्री कमल पटेल ने विकास कार्यों का किया शुभारम्भ