banner add
banner ad 11

श्रीलंकाः राष्ट्रपति ने आधी रात को संसद की भंग, चुनाव तिथि का ऐलान

Header Top

कोलंबोः श्रीलंका में गहराए राजनीतिक संकट के चलते राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना ने संसद को भंग कर 5 जनवरी को देश में चुनाव कराए जाने का ऐलान किया है। इससे साफ हो गया कि प्रधानमंत्री महिंद्रा राजपक्षे के लिए सदन में उनके पास पर्याप्त समर्थन नहीं था। 26 अक्टूबर को नाटकीय घटनाक्रम में सिरिसेना ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को बर्खास्त कर पूर्व राष्ट्रपति महिंद्रा राजपक्षे को प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ दिलाई थी। इसके बाद से श्रीलंका में राजनीतिक संकट गहरा गया था।

सिरिसेना ने आधी रात को नोटिफिकेशन पर साइन किया। सिरिसेना ने संसद को भंग के करने के लिए जारी गजट नोटिफिकेशन पर शुक्रवार आधी रात को दस्तखत किए। इसके मुताबिक, 19 से 26 नवंबर के बीच नामांकन भरे जा सकेंगे। 5 जनवरी को चुनाव होगा और 17 जनवरी तक नई संसद का गठन हो जाएगा। राजपक्षे के बहुमत जुटाने की कमजोर संभावना को देखते हुए उन्होंने कार्यकाल से 21 महीने पहले ही आम चुनाव के हालात पैदा कर दिए। संसद का कार्यकाल अगस्त 2020 तक का था। 14 नवंबर को राजपक्षे को बहुमत साबित करना था।

उधर, एक्सपर्ट्स का कहना है कि संसद भंग करने का राष्ट्रपति का फैसला असंवैधानिक है। 19वें संविधान संशोधन में सरकार के साढ़े चार साल के कार्यकाल की बात कही गई है। विक्रमसिंघे की यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) ने कहा कि हमें अचानक से संसद भंग करने का फैसला मंजूर नहीं है। राष्ट्रपति ने लोगों के अधिकारों पर कब्जा कर लिया है। प्रधानमंत्री पद से हटाए जाने को विक्रमसिंघे ने संवैधानिक तख्तापलट बताया था। उन्होंने सरकारी निवास भी खाली करने से मना कर दिया था। उन्होंने कहा था कि वह कानूनी रूप से अब भी देश के प्रधानमंत्री हैं और राष्ट्रपति को उन्हें पद से हटाने के कोई संवैधानिक अधिकार नहीं है। विक्रमसिंघे की फ्लोर टेस्ट कराने की अपील भी खारिज कर दी गई थी।विक्रमसिंघे का कहना है कि संविधान के 19वें संशोधन के मुताबिक राष्ट्रपति प्रधानमंत्री को बर्खास्त नहीं कर सकते। साथ ही, उन्हें संसद के साढ़े चार के कार्यकाल पूरा करने से पहले भंग करने का अधिकार भी नहीं है। विक्रमसिंघे को बर्खास्त करने के बाद सिरिसेना ने 16 नवंबर तक संसद निलंबित कर दी थी। इसके बाद राजपक्षे को संसद में 113 सांसदों का बहुमत साबित करने को कहा था। सिरिसेना ने एक रैली में यह दावा भी किया था कि संसद में उनके पास 113 सांसदों का समर्थन है। इसके चलते राजपक्षे सदन में बहुमत साबित कर सकते हैं। शुक्रवार को राजपक्षे के प्रवक्ता ने बताया कि वह जादुई आंकड़े (113) से कुछ दूर रह गए हैं। सोमवार को स्पीकर कारू जयसूर्या ने भी सिरिसेना के फैसले को अंसवैधानिक और गैर-लोकतांत्रिक करार दिया था। उन्होंने कहा था कि वह राजपक्षे को तब तक प्रधानमंत्री नहीं मानेंगे, जब तक वह सदन में बहुमत साबित न कर दें।

Shreegrah

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
आज दिन सोमवार का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे आयुष मेले में 678 रोगीयों का उपचार कर निःशुल्क दवाई वितरित की हरदा: शिवरात्रि तथा फाग उत्सव की तैयारियों को लेकर हुई चर्चा । विकास यात्रा में कृषि मंत्री श्री पटेल ने हितग्राहियों को सौगाते वितरित की मुख्यमंत्री कन्या निकाह योजना के तहत 70 कन्याओं का निकाह हुआ कृषि मंत्री श्री पटेल ने नवदम्पत्तियों ... कृषि मंत्री श्री पटेल ने विकास यात्रा को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया, विकास कार्यों का किया लोकार्पण जाति जनगणना के समर्थन में उतरी परिवर्तन समाज पार्टी कहा असली तस्वीर सामने लाना बेहद जरूरी: दिनेश राठ... कांग्रेस ने मनाई संत शिरोमणी गुरु रविदास की जयंती आज दिन रविवार का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे मानहानि के केस में दिग्विजय सिंह को मिली जमानत, वीडी शर्मा ने दर्ज कराया था मामला