ब्रेकिंग
आनंद उत्सव में बच्चों ने दिखाई प्रतिभा 16 साल की लड़की से पिता और भाई ने 2 साल तक किया रेप, ऐसे हुआ हैवानियत का खुलासा बीएचआरसी ग्रुप ने आयोजित की पत्रकार वार्ता, रखे सुझाव हरदा : गणतंत्र दिवस पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों एवं लोकतंत्र सेनानियों को उनके घर जाकर किया जाएग... हरदा : समारोहपूर्वक मनाया जाएगा गणतंत्र दिवस, आयोजन के संबंध शासन ने किये दिशा निर्देश जारी हरदा : गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारियों की समीक्षा की कलेक्टर गुप्ता ने UP Chunav 2022: कैराना में अमित शाह की घर-घर जाकर भाजपा के पक्ष में मतदान करने की अपील माघ मेला 2022: नहीं देखी होगी ऐसी साधना...पूजा पाठ का ये अनोखा तरीका, आकर्षण का केंद्र बना शिविर असदुद्दीन ओवैसी ने किया बाबू सिंह कुशवाहा और भारत मुक्त मोर्चा के साथ गठबंधन, निकाला 2 CM का फॉर्मूल... ओडिशा में 927 बच्चे Covid पॉजिटिव, 7 मरीजों की मौत- UP में स्कूल कॉलेज 30 जनवरी तक बंद

जानें क्या है मासिक दुर्गाष्टमी ?

शुक्रवार दिनांक 16.11.18 को शुक्रवारीय कार्तिक दुर्गाष्टमी मनाई जाएगी। शुक्रवार होने के कारण महादेवी के श्रीदेवी स्वरूप का पूजन किया जाएगा। श्रीदेवी यानि षोडशी जगदंबा का ही रूप माना जाता है। शास्त्रों ने इन्हे श्रीविद्या कहा है जोकि देवी का बालस्वरुप रूप है। 16 वर्षीय षोडशी चतुर्भुजी, त्रिनेत्री, वर, अभय, ज्ञान व तप की मुद्रा धारण करती हैं। कमलासन पर विराजित श्रीदेवी को ललिता व राजराजेश्वरी भी कहते हैं। शास्त्रों में इनके दो भेद बताए हैं पहला श्यामा व दूसरा अरुणा। श्यामा भेद में ये दक्षिणकालिका हैं व अरुणा भेद में ये षोडशी हैं। इनकी 16 कलाओं के कारण ये षोडशी कहलाती हैं। भगवती के चारों दिशाओं में चार व एक ऊपर की ओर मुख होने से इन्हें पंचवक्रा कहते हैं। शुक्रवारीय कार्तिक दुर्गाष्टमी पर श्रीदेवी के विशेष पूजन व उपाय से कंवारों को सुंदर जीवनसाथी प्राप्त होता है, दांपत्य में प्रेम बढ़ता है और जीवन में ऐश्वर्य आता है।

स्पेशल पूजन विधि: घर की उत्तर-पश्चिम दिशा में गुलाबी कपड़ा बिछाकर कलश में जल इत्र, सिक्के, दूध, रोली व अक्षत डालकर और कलश के मुख पर अशोक के पत्ते रखकर स्थापित करें। कलश के पास दुर्गा का चित्र रखकर विधिवत पूजन करें। सुगंधित दीपक करें, कपूर जलाकर धूप करें, गुलाबी फूल चढ़ाएं, गुलाल चढ़ाएं और सफ़ेद चंदन से तिलक करें। चावल की खीर का भोग लगाएं व 1 माला इस विशिष्ट मंत्र की जपें। पूजन के बाद भोग किसी कन्या को खिलाएं।

स्पेशल पूजन मंत्र: ऐं ह्रीं श्रीं ललितायै नमः॥
सुबह का पूजन मुहूर्त: 08:00 से 09:40 तक।

शाम का पूजन मुहूर्त: 17:22 से 19:17 तक।

स्पेशल टोटके:
ऐश्वर्य की प्राप्ति के लिए: 
देवी ललिता पर चढ़ा आटा किसी ब्राह्मणी को भेंट करें।

दांपत्य में प्रेम बढ़ाने के लिए: देवी ललिता के सामने गाय के घी का पंचमुखी दीपक करें।
सुंदर जीवनसाथी की प्राप्ति के लिए: देवी ललिता पर भोग लगा दही-शहद सफ़ेद गाय को खिलाएं।

गुडलक के लिए: देवी ललिता पर चढ़े गुलाल से मस्तक पर तिलक करें।

विवाद टालने के लिए: स्फटिक की माला से “ॐ शिवप्रियायै नमः” मंत्र का जाप करें।

नुकसान से बचने के लिए: देवी ललिता पर गुलाबी कनेर के फूल चढ़ाएं।
प्रोफेशनल सक्सेस के लिए: देवी ललिता पर 10 अक्षत चढ़ाकर ऑफिस की दराज़ में रखें।

एजुकेशन में सक्सेस के लिए: देवी ललिता पर चढ़े गुलाब के फूल की पट्टी नोटबुक में रखें।

पारिवारिक खुशहाली के लिए: शाम के समय घर में चंदन से धूप करें।

लव लाइफ में सक्सेस के लिए: गुलाबी स्केच पेन से लवर का नाम लिखकर देवी ललिता पर चढ़ाएं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!