ब्रेकिंग
आज दिन गुरुवार का राशिफल जानिये आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे शुद्ध बुद्धि यशोदा है जब दोनों का मिलन होता है तब हृदय के अष्ट कमल पर आनंद रूपी कृष्ण अवतार होता है।... हरदा ।  पूज्य बापू और सुभाषजी की प्रतिमा पर  माल्यार्पण करते समय कलेक्टर पहने हुए थे जूते ! मुंबई के ईस्ट बांद्रा में गिरी पांच मंजिला इमारत, कम से कम 5 लोगों के फंसे होने की आशंका गूगल के CEO सुंदर पिचाई के खिलाफ FIR दर्ज, कॉपीराइट के उल्लंघन का मामला हरदा : कांग्रेसजनों ने झंडावंदनकर 73वां गणतंत्र दिवस धूमधाम से मनाया स्कूल की पानी की टंकी ढही, एक बालक की मौत, तीन गंभीर विद्युत कंपनियो के मुख्यालय मे गणतंत्र दिवस समारोह  आयोग अध्यक्ष न्यायमूर्ति जैन द्वारा पर्यावास भवन परिसर में ध्वजारोहण कार्यक्रम सम्पन्न इंदौर में देह व्यापार वाले होटल और स्पा एक साल के लिए सील

माओवादियों ने रची PM मोदी की हत्या की साजिश, 10 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

माओवादी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या को अंजाम देने की योजना बना रहे हैं ।  पुणे पुलिस ने एल्गार परिषद मामले में वीरवार को दायर अपने आरोप पत्र में दावा किया कि कुछ माओवादी नेता पीएम की हत्या की साजिश रच रहे थे और उनकी योजना देश के खिलाफ युद्ध छेडऩे के लिए हथियार और गोला बारूद की खरीद करने की थी।

पुलिस के अनुसार माओवादी दलितों को लामबंद करने और भड़काने का प्रयास कर रहे हैं और पिछले साल दिसंबर में एल्गार परिषद का सम्मेलन इस रणनीति का हिस्सा था। आरोप पत्र में कहा गया कि माओवादी सर्मिथत सम्मेलन के कारण एक जनवरी को कोरेगांव भीमा में हिंसा ‘भड़क’ गई थी।

5,000 पृष्ठों के आरोप पत्र में कार्यकर्ता सुरेंद्र गाडलिंगग, महेश राउत, शोमा सेन, रोना विल्सन और सुधीर धवल सहित 10 लोगों के नाम शामिल हैं। इन सभी को छह जून को गिरफ्तार किया गया था। इसके अलावा पांच माओवादी नेताओं दीपक उर्फ मिङ्क्षलद तेलतुंबडे, किशन दा उर्फ प्रशांत बोस, प्रकाश उर्फ ऋतुपर्ण गोस्वामी, दीपू और मंगलू के नाम भी इसमें है जिनके बारे में माना जा रहा है कि वे भूमिगत हैं।

बता दें कि पुणे के रियॉल्टर तुषार दामगुडे ने 8 जनवरी को एक एफआईआर दर्ज कराई थी जिसमें आरोप लगाया कि 31 दिसंबर 2017 को ऐतिहासिक शनिवारवाड़ा में आयोजित एल्गार परिषद में कई भड़काऊ भाषण और उत्तेजित बयान दिए गए थे। पुलिस की चार्जशीट के अनुसार, एल्गार परिषद का आयोजन सीपीआई (एम) की समुदायों को आपस में बांटने और इतिहास से छेड़छाड़ कर सरकार के खिलाफ लोगों में तनाव पैदा करने के लिए एक षडयंत्र का हिस्सा था। इसके लिए उन्होंने दलित, अल्पसंख्यक,महिलाओं, छात्रों और उत्पीड़ित वर्ग को अपना लक्ष्य बनाया और उन्हें सरकार के खिलाफ उकसाने का षडयंत्र रचा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!