ब्रेकिंग
बिलासपुर के कोटा क्षेत्र में मोबाइल चोरी का आरोप लगाकर तीन भाइयों की पिटाई बिलासपुर नगर निगम की कार्ययोजना तैयार, अब नाम के अनुरूप होगा हाईटेक बस स्टैंड छत्‍तीसगढ़ में कृषि मंत्री बोले- उद्यानिकी फसलों के लिए किसानों को करें प्रोत्साहित कोरोना का असर- ​छत्तीसगढ़ में अब होटल संचालकों को बताना होगा किस व्यंजन में कितना न्यूट्रीशन अचानकमार टाइगर रिजर्व में कोरोना की दस्तक, सीसीएफ हुए संक्रमित बस्तर में पुलिस-नक्सली मुठभेड़ जारी, बीजापुर में 4 नक्सलियों को मार गिराया छत्‍तीसगढ़ के पूर्व सीएम डा. रमन ने कर्ज को लेकर सरकार को घेरा ट्रेनें रद, आर्थिक संकट से जूझ रहे बिलासपुर जोनल स्टेशन के कुली उज्जैन के घट्ट‍िया में सहायक प्रोफेसर ने प्राचार्य के साथ की मारपीट, वीडियो वायरल मध्‍य प्रदेश में 10वीं-12वीं की प्री-बोर्ड परीक्षाएं 20 जनवरी से, विद्यार्थी घर से हल करेंगे प्रश्‍न...

भोपाल की बेटी ने देश-विदेश के 150 विलुप्तप्राय प्रजाति के पौधों से घर में बना दिया मिनी जंगल, CM शिवराज ने की तारीफ

मकड़ाई समाचार भोपाल। राजधानी भोपाल में रहने वाली एक पर्यावरण-प्रेमी युवती ने अपने घर को मिनी जंगल बनाया है। उन्‍होंने अपने आवास परिसर के साढ़े आठ सौ स्केवयर फिट में चार हजार से ज्यादा प्रजाति के पेड़-पौधों को लगाया है। ये युवती हैं प्रोफेसर साक्षी भारद्वाज, जिनकी इसी खूबी के चलते उनका नाम ओमएजी बुक ऑफ रिकार्ड ने राष्ट्रीय रिकार्ड के रूप में दर्ज किया है। मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह को जब इस पहल के बारे में पता चला तो उन्‍होंने भी ट्वीट करते हुए प्रोफेसर साक्षी भारद्वाज की तारीफ की और उनके इस प्रयास को अभिनंदनीय बताया। साथ ही उन्‍होंने समस्‍त प्रदेशवासियों से हरियाली बढ़ाने हेतु योगदान देने की अपील की।
साक्षी भारद्वाज के घर जाएंगे तो देखकर चौंक जाएंगे कि यह घर या जंगल है। जब घर ही जंगल जैसे लग रहा है तो फिर इसका नाम भी साक्षी ने कुछ ऐसा ही रखा है जैसा आप सोच रहे होंगे। जी हां, उन्‍होंने अपने गार्डन को नाम दिया है- जंगलवास। इस जंगलवास में लगभग चार हजार पेड़-पौधे घर के बाहर और कुछ तो घर के अंदर भी लगे हुए हैं। साक्षी इनकी देखभाल बहुत अच्छी तरह से करती हैं। वे कहती हैं कि पेड़-पौधों में भी जान होती है और ये स्पर्श को भलीभांति समझते है। साक्षी कहती हैं कि इनकी साफ-सफाई, कांट-छांट में प्रेम और स्नेह के भाव का होना बहुत जरूरी है। यदि कोई इन बातों का ध्यान नहीं रखता है, तो पेड़-पौधे उस तरह से नहीं बढ़ पाते, जैसे बढ़ना चाहिए या फिर वे सूख जाते हैं।

आठ हजार रुपये का एक पौधा, विदेशों से भी मंगवाए

साक्षी ने बताया कि उनके पास इन पेड़-पौधों में से 150 प्रजाति के वे पेड़-पौधे हैं जो या तो विलुप्त हो चुके हैं या विलुप्त होने की कगार पर हैं। विश्व के सबसे बड़े जंगल अमेजन से लेकर फ्लोरिडा, इंडोनेशिया, थाईलैंड, फिलीपिंस आदि कई देशों से मंगाए इन पौधों को साक्षी ने अपने घर में बच्चों की तरह सहेजकर रखा है। आपको जानकर ताज्जुब होगा कि इनमें से एक विशेष पौधा आठ हजार रुपये का है। साक्षी ने बताया कि वैरीगेटेड मोस्टेरा डेलीगोसिया अमेजन रेड फारेस्ट में पाया जाता है। इसकी खासियत ये है कि इसमें सबसे ज्यादा आक्सीजन होती है। ये एक बेल टाइप क्रीपर है, जो आक्सीजन के लिहाज से बहुत लाभदायी है। यदि हम भारत की बात करें तो देशभर के विभिन्न् प्रजाति के पेड़-पौधे साक्षी के पास हैं। हिमाचल प्रदेश के जंगलों से लेकर एरनाकुलम, नागालैंड और अन्य प्रदेशों और शहरों से पौधों को मंगवाया है।

मानसरोवर ग्लोबल यूनिवर्सिटी के एग्रीकल्चर विभाग में सहायक व्‍याख्‍याता साक्षी भारद्वाज ने कहा कि मेट्रो शहरों में प्लांट कम्युनिटी होती है। यहां भी प्लांट कम्युनिटी बने। वह अब ऐसे पौधे लगाने की तैयारियां कर रही हैं, जिससे आकर्षित होकर तितलियां आ सकें। साथ ही उन्‍होंने नारियल के खोल में पौधों को सजाया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!