ब्रेकिंग
Republic Day 2022 Special : मेरा नाम 26 जनवरी है, और इस पर मुझे गर्व है जिले में प्रभारी मंत्री ने किया ध्वजाराेहण, मैदान में घुसे मवेशी, दाे जवान हुए घायल गणतंत्र दिवस समाराेह में शामिल हाेने जा रहे थे न्यायालय के कर्मचारी, डंपर ने मारी टक्कर, एक की माैत ... मणिपुर की शॉल, उत्तराखंड की टोपी, फिर चर्चा में PM मोदी की वेशभूषा विस्फोटक की सूचना पर मौके पर पहुंची बीडीएस टीम, यूपी के मुख्यमंत्री के नाम धमकी भरा पत्र मिला तहसील कार्यालय हंडिया में तहसीलदार ने किया ध्वजारोहण उग्र हुए छात्रों का हंगामा, पथराव के बाद ट्रेन की बोगी में लगाई आग कांग्रेस ने हर्षोल्लास से 73 वा गणतंत्र दिवस मनाया कलेक्ट्रेट, जिला पंचायत, जिला न्यायालय व अन्य कार्यालयों में हुआ ध्वजारोहण HARDA NEWS: हर्षाेल्लास के साथ मनाया गया गणतंत्र दिवस कलेक्टर श्री गुप्ता ने किया ध्वजारोहण

अक्षय नवमी का द्वापर युग से क्या है नाता ?

शनिवार दिनांक 17.11.18 कार्तिक शुक्ल नवमी पर अक्षय नवमी मनाई जाएगी। इसी दिन से द्वापर युग प्रारंभ हुआ था। इस दिन विष्णु ने कूष्माण्डक नामक दैत्य को मारा था व उसके रोम से कूष्माण्ड की बेल हुई। शास्त्रनुसार कूष्माण्ड (पेठा) के पूजन से घर में शांति आती है। इस दिन कूष्माण्ड के दान श्रेष्ठ फल देता है। इस दिन गंध, पुष्प अक्षत से कूष्माण्ड का पूजन कर तुलसी का विवाह कराने से कन्यादान के समान फल मिलता है। तीर्थ में स्नान करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है व राधा-कृष्ण की उपासना से सुख व वंश वृद्धि होती है। इस दिन आंवले के पेड़ का पूजन करने से मनोवांछित इच्छा पूरी होती है। अतः इसे इच्छा नवमी भी कहते हैं। आंवला मधुर दांपत्य सबंध बनाने की औषधि है अतः अक्षय नवमी को आंवला पूजन से स्त्री अखंड सौभाग्य पाती है और साथ ही आयु व संतान वृद्धि होती है।

स्पेशल पूजन विधि: सुबह दाहिने हाथ में जल, चावल, फूल लेकर संकल्प कर आंवले के पेड़ के नीचे पूर्वमुखी होकर “ॐ धात्र्यै नम:” मंत्र से आवाहन कर आंवले का धूप, दीप, पुष्प, गंध, नैवाद्य से षोडशोपचार पूजन करें। आंवले की जड़ में दूध गिराते हुए तर्पण करें। इसके बाद आंवले के तने पर मौली बांधें। चंदन-कपूर व गाय के घी का दीपक जलाएं और आंवले की आरती कर प्रदक्षिणा करें। इसके बाद घर की उत्तर-पश्चिम दिशा में गुलाबी कपड़ा बिछाकर लक्ष्मी-नारायण व राधा-कृष्ण का चित्र व कूष्माण्ड रखकर विधिवत पूजन करें। गाय के घी का दीप करें, चंदन की धूप करें, रोली, अबीर गुलाल चढ़ाएं। लाल, सफ़ेद व गुलाबी फूल चढ़ाएं, आंवले चढ़ाएं। इन विशेष मंत्रों की 1-1 माला जाप करें। पूजन के बाद आंवले व कूष्माण्ड ब्राह्मण दंपत्ति को दान दें।

आंवला वृक्ष पूजन मुहूर्त: सुबह 07:00 से सुबह 08:00 तक।

स्पेशल सुबह का मुहूर्त: सुबह 08:00 से सुबह 09:00 तक।

स्पेशल मध्यान का मुहूर्त: सुबह 11:20 से दिन 12:20 तक।

स्पेशल लक्ष्मी-नारायण पूजन मंत्र: ॐ पुष्कराक्षाय नमः॥

स्पेशल राधा-कृष्ण पूजन मंत्र: ॐ राधिकारमणाय नमः॥
स्पेशल कूष्माण्ड पूजन मंत्र: ॐ कूष्मांडगणनाथाय नमः॥

स्पेशल टोटके:
अखंड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए: राधा-कृष्ण पर चढ़े चिरमी के बीज बेडरूम में छुपाकर रखें।

दांपत्य सुख में वृद्धि के लिए: लक्ष्मी-नारायण पर चढ़ा कुष्माण्ड चौराहे पर रख दें।

संतान हीनता से मुक्ति के लिए: लक्ष्मी-नारायण पर चढ़े सूखे आंवले का नित्य सेवन करें।

गुडलक के लिए: सूखा आंवला हाथ में लेकर “ॐ ह्रीं श्रीं ऐं क्ष्रौं नमः” मंत्र का जाप करें।

विवाद टालने के लिए: राधा-कृष्ण पर चढ़े कूष्माण्ड किसी भिखारी को दान करें।

नुकसान से बचने के लिए: काले कपड़े में बंधे 12 आंवले लक्ष्मी-नारायण मंदिर में चढ़ाएं।

प्रोफेशनल सक्सेस के लिए: लक्ष्मी-नारायण पर चढ़े 2रु का सिक्का गल्ले में रखें।

एजुकेशन में सक्सेस के लिए: नीले पेन हाथ में लेकर “ॐ शिक्षाय नमः” मंत्र का जाप करें।

फैमिली हैप्पीनेस के लिए: राधा-कृष्ण के चित्र पर कपूर से लौंग जलाकर धूप करें।

लव लाइफ में सक्सेस के लिए: लक्ष्मी-नारायण पर चढ़े काजल से लेफ्ट हैंड की हथेली पर तिलक करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!