banner add
banner ad 11

भारत के खिलाफ खौफनाक साजिश रच रहे ये 2 आतंकी, सोशल मीडिया को बनाया जरिया

Header Top

लंदनः  भारत में खालिस्तान की आग को भड़काने के लिए विदेशी जमीन पर 2 खतरनाक आतंकी खौफनाक साजिश रच रहे हैं। खालिस्तान की मांग को सोशल मीडिया के माध्यम से तेज करने का अभियान जारी है। इन्होंने इसी साल 12 अगस्त को लंदन में भारत के खिलाफ एक रैली का आयोजन भी किया था। भारत सरकार ने उस रैली को बैन करने की गुजारिश की थी, जिसे ब्रिटेन ने ठुकरा दिया था। खालिस्तानी आंदोलन को हवा देने वाले पहले मास्टरमाइंड का नाम है परमजीत सिंह पम्मा जो एक फरार आतंकी है। पम्मा पर राष्ट्रीय सिख संगत चीफ रुलदा सिंह के मर्डर का इल्जाम है। वह 2010 में अंबाला और पटियाला में हुए ब्लास्ट समेत हत्या के कई मामलों में आरोपी भी है।

सुरक्षा एजेंसियों को मिले इनपुट के मुताबिक, पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई अब अलग कश्मीर की तरह अलग खालिस्तान की मांग को भड़काने का काम भी कर रही है। इस काम में सबसे अहम भूमिका निभा रहा है शाहिद मोहम्मद मलही उर्फ चौधरी साहब। वह पाकिस्तानी सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल के पद पर तैनात है। दरअसल, चौधरी साहब और परमजीत सिंह पम्मा ही वो दोनों शख्स हैं, जिन्होंने लंदन में इसी साल 12 अगस्त को भारत विरोधी रैली का आयोजन किया था। परमजीत सिंह पम्मा बर्म‍िंघम में शरण लिए हुए है। उसे सिख फॉर जस्टिस नामक संगठन की रैली और तरफलगार स्क्वेयर में आयोजित किए गए सिख रेफरेंडम 2020 रैली की प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी देखा गया था।

उस रैली की प्रेस कॉन्फ्रेंस में खालिस्तानी आतंकी पम्मा को पाकिस्तानी वेल्फेयर काउंसिल, वर्ल्ड कश्मीर फ्रीडम मूवमेंट, कश्मीरी पेट्रियोटिक फोरम इंटरनेशनल के नेताओं का भी समर्थन मिला था। साथ ही, ब्रिटेन की वामपंथी ग्रीन पार्टी ने भी उस खालिस्तानी रैली को अपना समर्थन दिया था। पम्मा के बारे में कहा जाता है कि वह कुख्यात खालिस्तानी आतंकी वधावा सिंह का सहयोगी रहा है। इसके बाद  पम्मा ने खालिस्तान टाइगर फोर्स के मुखी जगतार सिंह तारा से हाथ मिला लिया था। तारा की थाईलैंड में गिरफ्तारी के बाद पम्मा खालिस्तान टाइगर फोर्स का मुखिया बन गया। बाद में वो पाकिस्तान चला गया और वर्ष 2000 में उसने यूके में राजनीतिक शरण ली थी।

Shreegrah

पम्मा की गिरफ्तारी के लिए इंटरपोल की तरफ से रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था। इसके चलते उसे वर्ष 2016 के दौरान पुर्तगाल में गिरफ्तार कर लिया गया था। उस समय भारत सरकार ने उसके प्रत्यपर्ण की काफी कोशिश की थी, लेकिन उसका प्रत्यपर्ण नहीं हो पाया था। भारतीय खुफिया एजेंसियों का मानना है कि कनाडा और कुछ यूरोपीय देशों में चल रहे ‘रेफरेंडम 2020’ खालिस्तानी आंदोलन के पीछे पाकिस्तानी सेना के लेफ्टिनेंट कर्नल शाहिद मोहम्मद मलही उर्फ चौधरी साहब का ही दिमाग है। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय एजेंसियों के हाथ अहम दस्तावेज लगे हैं, जिसमें ‘रेफरेंडम 2020’ का पूरा रोडमैप है।

उस रिपोर्ट के अनुसार, ऑपरेशन ब्लू स्टार की 36वीं सालगिरह 6 जून 2020 को ‘रेफरेंडम 2020’ को लॉन्च करने की तैयारी है। बता दें कि 12 अगस्त को लंदन में आयोजित भारत विरोधी रैली को ‘लंदन डिक्लेरेशन’ का नाम दिया गया था। इसमें 10000 सिखों के हिस्सा लेने का दावा किया गया था। इसी के तहत अलग खालिस्तान की मांग के समर्थन में 2020 में जनमत संग्रह कराने के लिए सोशल मीडिया पर जमकर प्रोपेगैंडा किया जा रहा है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
विवादित बयान से संविधान का अपमान ? गेस्ट हाउस में चल रहा था देह व्यापार, आपत्तिजनक हालत में 3 जोड़े गिरफ्तार, संचालक फरार राजगढ़ जिले में दो दिवस में विकास यात्राओं में 710 लाख के विकास कार्यो का लोकार्पण एवं 641 लाख के विक... लोक सेवा गारंटी अंतर्गत सेवाओं को समय-सीमा में शिकायतों का निराकरण नहीं करने पर चार अधिकारियों पर लग... संत रविदास जयंती के उपलक्ष में हुआ कार्यक्रम का भव्य आयोजन, सिराली के मुख्य मार्गो से निकली शोभायात्... मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी हरदा ने दस्तक अभियान का किया शुभारंभ harda : आत्माराम की खुशी का आज ठिकाना न था, विकास यात्रा में पक्के मकान में परिवार सहित किया गृह प्र... टिमरनी विधानसभा के ग्रामीण क्षेत्रों में पहुँची ‘‘विकास यात्रा’’ harda : रमेश का सपना हुआ साकार विकास यात्रा में मिली पक्के मकान की सौगात मुख्यमंत्री चौहान ने सिंगल क्लिक के माध्यम लाड़ली लक्ष्मियों के खाते मे छात्रवृत्ति की राशि ट्रांसफर ...