banner add
banner ad 11

क्यों लक्ष्मी की बहन अलक्ष्मी को लोग नहीं करते पसंद?

Header Top

हर कोई चाहता है उसके घर में हमेशा लक्ष्मी का वास हो, ताकि उसके जीवन में कभी पैसों संबंधी कोई कमी न हो। परंतु माता लक्ष्मी तो चंचला देवी हैं, इसलिए ये कभी किसी जगह पर स्थिर नहीं रहती। कहा जाता है जब लक्ष्मी एक स्थान से चली जाती है तो उस स्थान पर अलक्ष्मी का निवास हो जाता है। परंतु लक्ष्मी की अलक्ष्मी को कोई भी पसंद नहीं करता। पर एेसा क्यों, क्या आपने कभी सोचा है कि आख़िर क्यों अलक्ष्मी को लोग पसंद नहीं करते। तो आईए जानते हैं कि इससे संबंधित कथा –

सुख और सौभाग्य की देवी है लक्ष्मी
हिंदू धर्म के अनुसार लाल कपड़ों, आभूषणों से सजी, कमल पर बैठी, सोने और अनाज से भरा बर्तन हाथों में लिए देवी लक्ष्मी को सुख, समृद्धि, शक्ति की देवी कहा गया है जिसे संस्कृति प्रकृति से प्राप्त करती है। वह अति सम्मोहक और चंचल हैं। कहते हैं उन्हें हमेशा पास रखना एक सतत संघर्ष है। तो दूसरी ओर उनके बगल में बैठी उनकी जुड़वां बहन अलक्ष्मी को गरीबी, दुख और दुर्भाग्य की देवी कहा गया है। शक्ति, सुख और समृद्धि के साथ आता है भोग से उत्पन्न कचरा, चिपचिपे द्रव्य के रूप में जिसे हलाहल कहते हैं।समुद्र मंथन से हुआ था उत्पत्ति
कुछ पौराणिक कथाओं के अनुसार जिस मंथन के दौरान लक्ष्मी प्रकट हुईं उसी मंथन में हलाहल भी आया। लक्ष्मी को तो सब चाहते थे लेकिन कोई भी हलाहल नहीं लेना चाहता था। शिव वैश्विक चीजों के प्रति उदासीन हैं इसलिए वह इच्छित और अवांछित चीजों में फर्क नहीं करते हैं। उनकी दृष्टि में हलाहल भी अमृत से अलग नहीं है इसलिए वे पूरा विष पी जाते हैं और नीलकंठ कहलाते हैं।

न करें इन चीजों की अनदेखी
वैष्णव साहित्य में हालाहल को अलक्ष्मी से जोड़ कर देखा गया है जो दुर्भाग्य और दारिद्रय की देवी हैं और लक्ष्मी की जुड़वां बहन हैं। जैसे कोई भी शानदार चीज़ बिना कचरा पैदा किए नहीं बनती, वैसे ही लक्ष्मी के साथ हमेशा अलक्ष्मी भी होती हैं। एेसा कहा जाता है कि जो व्यक्ति इन दोनों यानि लक्ष्मी और अलक्ष्मी की अनदेखी करता है उसका बहुत बुरा हाल होता है। अलक्ष्मी दुख की देवी हैं और जब तक व्यक्ति इन्हें स्वीकार नहीं करता तब तक उसकी किस्मत हमेशा अपने साथ उसका नाश लेकर आती है।

Shreegrah

किन पर बरसती है मां लक्ष्मी की कृपा
हिंदू धर्म के ग्रंथों में एक कथा के अनुसार लक्ष्मी और अलक्ष्मी दोनों बहनों ने एक बार किसी व्यापारी से पूछा कि उन दोनों में से कौन अधिक सुंदर है। व्यापारी समझदार था और अच्छी तरह से जानता था कि किसी एक का भी अपमान करना उस पर बहुत हावी पड़ सकता है। इसलिए उसको किसी को भी नाराज़ न करते अपना नतीजा सुनाना होगा। जिसके बाद उसने अपनी सूझबूझ का इस्तेमाल करते हुए कहा, लक्ष्मी घर में आती हुई अच्छी लगती हैं जबकि अलक्ष्मी घर से बाहर जाती हुई। लोग मान्यता है यही वजह है कि लक्ष्मी व्यापारियों पर कृपालु रहती हैं।

मिष्ठान्न हैं माता को प्रिय
ज्योतिष के अनुसार देवी लक्ष्मी का संबंध मिष्ठान्न से है जबकि अलक्ष्मी खट्टी और कड़वी चीज़े बेहद पसंद है। यही वजह है कि मिठाई घर के भीतर रखी जाती है जबकि नीबू और तीखी मिर्ची घर के बाहर टंगी हुई पाई जाती है। लक्ष्मी मिठाई खाने घर के अंदर आती हैं जबकि अलक्ष्मी द्वार पर ही नींबू और मिर्ची खा लेती हैं और संतुष्ट होकर लौट जाती हैं। दोनों को ही स्वीकार किया जाता है पर स्वागत एक का ही होता है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
आज दिन सोमवार का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे आयुष मेले में 678 रोगीयों का उपचार कर निःशुल्क दवाई वितरित की हरदा: शिवरात्रि तथा फाग उत्सव की तैयारियों को लेकर हुई चर्चा । विकास यात्रा में कृषि मंत्री श्री पटेल ने हितग्राहियों को सौगाते वितरित की मुख्यमंत्री कन्या निकाह योजना के तहत 70 कन्याओं का निकाह हुआ कृषि मंत्री श्री पटेल ने नवदम्पत्तियों ... कृषि मंत्री श्री पटेल ने विकास यात्रा को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया, विकास कार्यों का किया लोकार्पण जाति जनगणना के समर्थन में उतरी परिवर्तन समाज पार्टी कहा असली तस्वीर सामने लाना बेहद जरूरी: दिनेश राठ... कांग्रेस ने मनाई संत शिरोमणी गुरु रविदास की जयंती आज दिन रविवार का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे मानहानि के केस में दिग्विजय सिंह को मिली जमानत, वीडी शर्मा ने दर्ज कराया था मामला