ब्रेकिंग
बड़ी दुखद खबर Mp: जिंदगी की जंग हार गई, 5 साल की मासूम माही, इलाज के दौरान तोड़ा दम ! Big News: डॉक्टर ने पत्नी बच्चो की बेरहमी से हत्या की फिर खुद भी झूल गया फांसी के फंदे पर, हत्या या ... Aaj ka Rashifl: आज दिनांक6/12/2023 का राशिफल, जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे | Harda: करणी सेना हरदा में करेगी चक्का जाम ! Harda: सोशल मीडिया पर एक युवक ने गुर्जर समाज पर की अभद्र टिप्पणी ! स्टाइलिश साड़ी के साथ ब्रालेट ब्लाउज में दिशा पटानी का बोल्ड अवतार, देखें एक्ट्रेस का सेक्सी अंदाज जीत का प्रमाणपत्र ले, मध्य रात्रि में पैदल पहुंचे कान्हा बाबा, अभिजीत शाह ने सोडलपुर में मानी थी मन... Harda: कृषि विज्ञान केंद्र हरदा में विश्व मृदा स्वास्थ दिवस मनाया गया | Harda: श्रमोदय विद्यालय में प्रवेश के लिये परीक्षा 21 जनवरी को होगी | Harda: एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय रहटगांव में प्रवेश के लिये आवेदन करें |

वन परिक्षेत्र में दलदल में फंसकर हाथी के बच्चे की मौत

मकड़ाई समाचार अंबिकापुर। सूरजपुर जिले कुदरगढ़ वन परिक्षेत्र में दलदल में फंसने से हाथी के बच्चे की मौत हो गई।भोर में दलदल में फंसे हाथी के बच्चे को निकालने का प्रयास हाथियों ने किया था लेकिन सफल नहीं होने पर वे जंगल की ओर चले गए थे। हाथी के बच्चे की मौत के बाद सूरजपुर डीएफओ के नेतृत्व में वन विभाग की टीम मौके पर पहुंच हाथी के बच्चे के शव को दलदल से निकालने का प्रयास कर रही है।

यह वही हाथियों का दल है जो पिछले एक सप्ताह से भैयाथान क्षेत्र के चेन्द्रा, पकनी आदि ग्रामो में स्वच्छंद विचरण कर रहा था। बताया गया है कि मंगलवार भोर में 24 हाथियों का दल कुदरगढ़ रेंज के ग्राम जाज से जंगल की ओर निकला, लेकिन जंगल जाते वक्त करहिया नाले में दो वर्ष का हाथी का बच्चा दलदल में फंस गया जिसे अन्य हाथियों ने निकालने की कोशिश की पर सफल नही हुए और बाद में हाथी जंगल की ओर निकल गए। इधर दलदल में फंसे हाथी ने दम तोड़ दिया। ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग को दी। जिस पर रेंजर नरेंद्र गुप्ता सहित अन्य लोग मौके पर पहुंच कर जानकारी ली और उच्चाधिकारियों को इसकी जानकारी दी है।

जिस पर से डीएफओ व एसडीओ आदि मौके पर पहुंच कर हाथी को दलदल से निकालने का प्रयास कर रहे है। बताया गया है कि सुबह हाथियों को जंगल की ओर जाते देखा गया था। दलदल में हाथी के बच्चे के फंसे होने की सूचना पर पशु चिकित्सकों से उपचार कराने संपर्क साधा जा रहा था लेकिन उसके पहले ही उसकी मौत हो गई। इन हाथियों द्वारा क्षेत्र में फसलों को क्षति पहुंचाने के साथ मकानों में भी तोड़फोड़ की गई है।बता दें कि तमोर पिंगला अभयारण्य क्षेत्र से ये हाथी मैदानी इलाकों में निकले है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!