MP में फैक्ट्रियां बनी मजदूरों का काल,पहले भी हो चुकी हैं दर्दनाक घटनाएं

Header Top

भोपाल:  कुछ दिन पहले घटित घटना की आग ठंडी नहीं पड़ी थी कि दरमियानी रात एक और बड़ी घटना इस उद्दोग के प्रबंध तंत्र की घोर लापरवाही की भेट चढ़ गई। जिसमे दो जिंदगियां काल के गाल में समा गई और लगभग आधा दर्जन लोगो को गंभीर छोटे आई जिनका इलाज जारी है।  इस उद्दोग में बैठे जिम्मेवार अधिकारी उत्पादन की होड़ में इस कदर अंधे हो चुके है कि अब मानव जिंदगियां कीड़े-मकोड़ो की तरह नजर आने लगी है। जान जाती है तो जाती रहे. इन्हें तो किसी भी हाल में प्रोडक्शन चाहिए।तमाम सुरक्षा के मापदंडो को दरकिनार कर मानव जिंदगियो से खिलवाड़ करने वाले इन जिम्मेवार अधिकारियो पर लेबर कोर्ट से लेकर मानवाधिकार की गाज क्यों नहीं गिरती यह बड़ा सवाल बनते जा रहा है। MP में ऐसे कई हादसे हो चुके हैं, जिनमें बेगुनाह मजदूर मौत की भेट चढ़ चुके हैं-

  • 30 अप्रैल 2018 को मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में एक प्लास्टिक फैक्ट्री में भीषण आग लग गई थी। इस आग में दो मजदूर जिंदा जल गए थे, जबकि चार लोग बुरी तरह से झुलस गए थे।  सौंसर तहसील के सातनुर गांव में रात करीब 3 बजे एक प्लास्टिक फैक्ट्री में भीषण आग लग गई थी। अचनाक लगी इस आग में फैक्ट्री में काम कर रहे मजदूर भी चपेट में आ गए थे।
  • 7 जून 2017 को बालाघाट में खैरी नामक स्थान पर स्थित वारसी की पटाखा फैक्ट्री में तेज धमाका हुआ था। इस विस्फोट में 23 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 10 लोग घायल हो गए थे। पटाखा फैक्ट्री में करीब 40 लोग काम कर रहे थे। धमाका इतना भयानक था कि बाहर खड़ी फायर बिग्रेड भी जल गई। हादसा बुधवार दोपहर करीब 2 बजे हुआ था। 2015 में भी बालाघाट जिले के किनारपुर में एक अवैध  पटाखा फैक्ट्री में धमाका हुआ था। उस हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई थी जबकि करीब एक दर्जन लोग घायल हुए थे।
  • 17 अगस्त 2014 को मध्य प्रदेश के जबलपुर में एक आयुध कारखाने (ऑर्डनेंस फैक्टरी) में बम में बारूद भरने के दौरान दुर्घटनावश हुए विस्फोट में चार कामगार घायल हो गए थे। यह विस्फोट इतना जबरदस्त था कि इमारत की छत, दरवाजे और खिड़कियां बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए थे।
  • 25 मार्च 2017 को जबलपुर में स्थित खमरिया ऑर्डनेंस फैक्ट्री में शाम 6.20 बजे भीषण आग लग गई थी।आग इतनी भीषण थी कि फैक्ट्री में एक के बाद एक लगातार विस्फोट होते रहे। 125 mm सॉफ्ट कोर एंटी टैंक बम की शिफ्टिंग के दौरान यह हादसा हुआ था। इस ऑर्डनेंस फैक्ट्री में सेना के लिए गोला-बारूद बनाए जाते हैं।
  • 8 नवंबर 2013 को मध्यप्रदेश के कटनी जिला मुख्यालय के माधवनगर क्षेत्र में स्थित ऑर्डनेंस फैक्ट्री में एक श्रमिक की मशीन में पैर फंस जाने से मौत हो गई थी।श्रमिक सुभाष नगर का रहने वाला था और वह रात्रि ड्यूटी में फैक्ट्री गया था। सुबह मशीन में सामग्री डालने के दौरान वह हादसे का शिकार हो गया।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
ब्रेकिंग
कृषि मंत्री श्री पटेल ने जन सेवा अभियान के तहत हितग्राहियों को वितरित की सहायता कृषि मंत्री श्री पटेल ने महात्मा गांधी की प्रतिमा पर किया माल्यार्पण हरदा बिग ब्रेकिंग : दुःखद सड़क दुर्घटना में पति-पत्नी सहित दो मासूम बच्चों की मौत, चाचा गंभीर घायल, क... तूफानी रफ्तार : 25 फीट दूरी तक उछलकर नाले में पलटी कार, एयर बैग खुलने से बची युवक की जान सड़क बनाने खोदी मुरम, गड्ढे में भरा वर्षा का पानी, तीन बच्चियों की डूबने से मौत BREAKING NEWS : ट्रक और फोर व्हीलर वाहन भीषण टक्कर, हरदा के एक ही परिवार के 4 लोगों की मौत, 1 गंभीर अशोक गहलोत ने बताई बागी विधायकों की नाराजगी की वजह, पायलट गुट पर साधा निशाना उजड़ गए 3 परिवार, बच्चों के शव देख कांपी रूह, अंतिम संस्कार में उमड़ी भीड़ राजनीतिक सरंक्षण में हो रहा अवैध उत्खनन,कार्यवाही में अवैध खदान से 11 ट्रक किए जब्त अवैध उत्खनन पर कार्यवाही में 746 एफआईआर,456 किए गिरफ्तार ,साढे़ 11 करोड़ जुर्माना वसूला,कार्यवाही से ...