ब्रेकिंग
Breaking News: अब प्रदेश के मुख्य पर्यटन स्थलों को PPP मॉडल के तहत हवाई मार्ग से जोड़ा जाएगा साथ ही ... ग्राम पंचायत सचिव भर्ती 2024: पंचायत सचिव के 8000 पदों पर निकली भर्ती, ऐसे करे आवेदन PM Ujjwala Yojana 2024 : केंद्र सरकार ने किया बड़ा बदलाव, अब सिर्फ इन महिलाओं को मिलेगा लाभ PM Kisan Yojana Beneficiary Status 2024 : सिर्फ इन किसानों को मिलेगा, 16वी किस्त का पैसा, देखे अपना ... Gwaliear News : अक्षया हत्याकांड की गवाह की मां पर चली गोली Weathar Update: मौसम ने बदले तेवर छिंदवाड़ा, बैतूल सहित म.प्र. के शहरों में हुई वर्षा गिरे ओले Ladli Behna Yojana 3rd Round : अब लाडली बहनों को नहीं करना होगा तीसरे चरण का इंतजार, अभी तुरंत देखें... MP Cycle Distribution Scheme 2024: राज्य सरकार मुफ्त में देगी साइकिल, देखे पूरी जानकारी Rewa News : विंध्या श्रीवास्तव से हुई लूट के आरोपी पुलिस ने पकड़े लूट का माल जब्त किया Khandwa News: खंडवा इंदौर रोड पर तेज रफ्तार डंपर यात्री बस में भिड़त, 20 यात्री घायल

MP में भ्रष्टाचार का बड़ा मामला : बड़वानी आंगनबाड़ी केंद्र रिनोवेशन और रिपेयरिंग घोटाला, PWD, RES के 42 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

जिले में संचालित सभी आंगनबाड़ी केंद्रों के रिनोवेशन में अधिकारी, कर्मचारी और ठेकेदार सभी ने मिलकर सरकारी धन आपस में बांट लिया |कुल 42 लोगों के खिलाफ आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ द्वारा मामला दर्ज किया गया

मकड़ाई एक्सप्रेस 24 बड़वानी।मध्यप्रदेश शासन के लोक निर्माण विभाग और ग्रामीण यांत्रिकी विभाग के अधिकारी, कर्मचारी और ठेकेदार मिलाकर कुल 42 लोगों के खिलाफ आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ द्वारा मामला दर्ज किया गया है। प्राथमिक जांच में सभी को बड़वानी जिले में संचालित सभी आंगनबाड़ी केंद्रों के रिनोवेशन में भ्रष्टाचार का दोषी पाया गया है।

EOW INDORE के डीएसपी पवन सिंघल ने बताया कि लोक निर्माण विभाग और ग्रामीण यांत्रिकी विभाग के अधिकारी व कर्मचारियों के साथ ठेकादरों सहित 42 पर भ्रष्टाचार एक्ट, धोखाधड़ी, गबन व कूटरचना की धाराओं में केस हुआ है। संचालनालय एकीकृत बाल विकास सेवा द्वारा बड़वानी जिले को IDCA मिशन तहत 2013-14 में आंगनबाड़ी भवनों के निर्माण काम के लिए 4.56 करोड़ रुपए मंजूर हुए। साथ ही अन्य 105 शासकीय भवनों के लिए भी 39 लाख से ज्यादा राशि मंजूर हुई थी, लेकिन इस काम को करने और करवाने के लिए जितने भी लोग (अधिकारी, कर्मचारी और ठेकेदार) नियुक्त किए गए थे,सभी ने मिलकर सरकारी धन आपस में बांट लिया और दस्तावेजों की कूट रचना करके, यह साबित करने का प्रयास किया कि नियमानुसार रिनोवेशन और रिपेयरिंग का काम पूरा हो गया है। जब इस मामले की शिकायत हुई और फिजिकल वेरिफिकेशन करवाया गया तो पता चला कि, वर्क आर्डर तो जारी हुए थे परंतु काम करने के लिए कोई ठेकेदार नहीं आया।

लोक निर्माण विभाग – कार्यपालन यंत्री एके टूटेजा, कार्यपालन यांत्रिक जीपी पटेल, अनुविभागीय अधिकारी विजयसिंह पंवार,उपयंत्री बीबी खरे, आरके बंदूके, सिमाब कुरैशी, अनिल मंडलोई, दिनेशचंद्र गंगराड़े, वरिष्ठ लेखा लिपिक मालसिंह चौहान, तकनीकी शाखा प्रभारी जामसिंह चौहान, अंकेक्षक जितेंद्र पटेल, अंकेक्षक दीपक अग्रवाल|

यह भी पढ़े-

- Install Android App -

ग्रामीण यांत्रिकी विभाग – कार्यपालन यंत्री एसएस डाबर, कार्यपालन यंत्री केपी भालसे, सहायक यंत्री प्रभारी कार्यपालन यंत्री सुनील बोदड़े, सहायक यंत्री सोमदत्त वर्मा, अनुविभागीय अधिकारी अमर सिंह सिसोदिया, अनुविभागीय अधिकारी सुनील खानबिलकर, उपयंत्री ग्रामीण यांत्रिकी तिलक अलावा, उपयंत्री ग्रामीण यांत्रिकी अनिल मंडलोई, उपयंत्री सुनील मंडलोई, उपयंत्री रेमसिंह परमार, उपयंत्री सतीश राणे, सहायक ग्रेड टू कासीराम संवेदी, मानत्रिकार एसके बहेलिया, सहायक मानचित्रकार तुलसीराम लारिया, सहायाक मानचित्रकार राधेशयाम बडोले, सहायक ग्रेड 3 कमल कुमार, डाटा एंट्री योगेश चुतवेर्दी, जिला कार्यक्रम अधिकारी रत्ना शर्मा|

ठेकेदार – मेसर्स कर्नल कंस्ट्रक्श्न के कर्नल शेख, अशोक शर्णा, प्रवीण सिसोदिया, जितेंद्र जमरे, शरद सिंह, राहुल सगर, नवल सिंह किराडे व अन्य

Don`t copy text!