ब्रेकिंग
मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना 2024: बिहार सरकार देगी राज्य की बेटियों को ₹50000, यहां जानें आवेदन प... Mukhyamantri Bahan Beti Swavalamban Protsahan Yojana: सरकार को नई योजना के तहत महिलाओं को मिलेंगे ₹1... PM Awas Yojana Latest Update: पीएम आवास योजना को लेकर केंद्र ने जारी किया बड़ा अपडेट, देखे पूरी जानक... Mp Big News: सिवनी के कलेक्टर और एसपी को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने हटाया । हरदा : हरदा जिले के विभिन्न पोलियो बूथ पर 5 वर्ष तक की आयु के बच्चों को पोलियो की दवा पिलाई गई Harda News: जिले के अन्नदाताओ को चोर समझ रहा है जिला प्रशासन : मोहन बिश्नोई ग्रामीण परंपरागत खेलों को बढ़ावा देती ग्रामीण संस्कृति,बचपन के देशी खेल को बढ़ावा दे रहे पंचायत के ग... देवास जिले में 23 जून रविवार को जन्म से 5 वर्ष तक के बच्चो को पिलाई जाएगी पोलियों की दवा हरदा जिले में प्रथम आगमन पर केंद्रीय मंत्री श्री उइके का हुआ जगह-जगह स्वागत, मंत्री श्री उइके ने पौध... Aaj ka rashifal: आज दिनांक 23/06/2024 का राशिफल, जानिए आज क्या कहते है। आपके भाग्य के सितारे

निर्वाचन आयोग ही नहीं गंभीर – मप्र मुख्यमंत्री ने भी कैमरे के सामने डाला वोट, कक्ष में हुआ फोटोसेशन, कांग्रेस के केदार ने की कार्रवाई की मांग

भोपाल ।  इस बार लोकसभा चुनाव में मतदान की गोपनीयता को बिल्कुल गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है। विगत दिनों जहां भोपाल में भाजपा के जिपं सदस्य विनय मेहर के पुत्र के साथ, पूर्व मंत्री कमल पटेल के पोते के साथ और कांग्रेस नेता आरिफ मसूद के बेटे के साथ मतदान करते हुए फोटो वायरल हुई और इनपर लोक प्रतिनिधित्व का मामला दर्ज हुआ।

बीते कल ही भाजपा के गोविंद सिंह की मतदान कक्ष में सपत्नीक तस्वीरें वायरल हुईं और आज उज्जैन में मप्र के सीएम ने न सिर्फ कैमरा के सामने  मतदान किया और कक्ष में ही तस्वीरें भी निकालने दीं।

अब प्रदेश के मुखिया पर निर्वाचन आयोग के नियम लागू होते हैं या नहीं । यह आयोग को देखना होगा ।

किसान कांग्रेस के केदार ने इस मामले की शिकायत सोशल मीडिया के माध्यम से निर्वाचन आयोग से की है।

क्या लिखा कांग्रेस नेता  केदार सिरोही ने –

◆ Election Commission of India

Oplus_0

क्या मुख्यमंत्री के लिए अलग क़ानून है? जब पूर्व मंत्री, विधायक और जनपद सदस्य पर FIR की गई तो इन्हे क्यों छूट दी जा रही है..

चुनाव आयोग ने तुरंत कार्यवाही करना चाहिए अन्यथा जिन पर कार्यवाही की गई उनकी निरस्त करना चाहिए..

एक देश एक क़ानून का मतलब तो यही है…

- Install Android App -

◆ एक देश एक क़ानून की बात करने वाली भाजपा के नेताओं के अपने अपने क़ानून है

Election Commission of India

जब मध्य प्रदेश मे कई लोगो पर कार्यवाही की गई है तो गोविन्द सिंह को क्यों छोड़ा गया है? क्या नियम क़ानून चेहरे देख कर लागु किए जाएंगे?

CM Madhya Pradesh

हम गोविन्द सिंह के ऊपर कार्यवाही की मांग करते है, आखिर कार यह लोग इतने महत्वपूर्ण पदों पर रहते हुए नियम का पालन क्यों नहीं करते? यह जैसा करते जनता इन्हे फॉलो करती है इसलिए इनकी नैतिक जबाबदेही तो संविधान, लोकतंत्र और क़ानून के लिए   ज़्यदा होना होना चाहिए जो उल्टा है.

Don`t copy text!