ब्रेकिंग
Aaj Ka Rashifal | राशिफल दिनांक 21 जून 2024 | जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे सिवनी मालवा : मुख्यमंत्री की मंशा को पलीता लगा देगें ये नेता और अधिकारी, विधायक के गृह ग्राम बघवाड़ा... खण्डवा : खण्डवा हत्या के आरोपीयों को तत्काल गिरफ्तार कर न्यायालय पेश किया गया Harda News: हरदा जिला अस्पताल में महिला वार्ड में भर्ती लड़की हुई गायब, पुलिस ने 12 घटों के अंदर गुम... Harda News: '21 जून योग दिवस पर विशेष' सूर्य किरणो से प्रदेश के 14 जिलों में कर्क रेखा पर आज शून्‍य ... खंडवा : अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर विशेष, पानी में तैरते हुए योग, इस शख्स की कला देखकर हो जाएंगे हैरा... Harda News: ‘‘स्वयं एवं समाज के लिए योग’’ की थीम पर आयोजित होगा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम Harda News: बिरसा मुंडा स्व-रोजगार योजना के तहत मिलेगा 50 लाख रुपये तक का ऋण Harda News: पल्स पोलियो अभियान के तहत 23 से 25 जून तक बच्चों को पिलाई जाएगी दवा Harda News: जिला स्तरीय रोजगार मेले में 143 युवाओं का हुआ प्राथमिक चयन

‘नौ तपा पर विशेष’ रोहणी को समझे घड़ी का कांटा, पूरी पृथ्वी में गर्मी से नहीं है इसका नाता – सारिका घारू

नक्षत्र नहीं सूरज की सीधी किरणें लाती है गर्मी, नौतपा का विज्ञान बताया – सारिका ने

नर्मदा पुरम : जिस तरह घड़ी का कांटा सुबह ,दोपहर और शाम होने का अहसास कराता है ठीक उसी प्रकार नक्षत्रों की आकाशीय घड़ी में जब सूर्य रोहणी के सामने आता है तो वह मध्यभारत मे तीक्ष्ण गर्मी का समय होता है रोहणी नक्षत्र का पूरी पृथ्वी के तापमान से कोई संबंध नहीं होता है यह बात नेशनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू कही l इसमें सारिका घारू ने बताया कि जब सूर्य की परिक्रमा करते हुए 365 दिन बाद पृथ्वी उस स्थिति में आ जाती है जबकि सूर्य के पीछे वृषभ तारामंडल का स्टार रोहिणी आ जाता है तो इससे पहले नौ दिन नौतपा कहलाते हैं । सारिका ने बताया कि वर्तमान पीढ़ी के लिए हर साल 25 मई को सूर्य के पीछे रोहिणी तारा आ जाता है ।सूर्य के पीछे रोहिणी तारा आने की यह घटना सन 1000 में 11 मई को हुआ करती थी संभवतः 1000 साल पहले इस अवधि में भारत के मध्य भारत में गर्मी होने से इसे नौतपा नाम दिया गया । वर्तमान मे यह घटना 25 मई को आरंभ होने लगी l

क्या रोहिणी तारा का है गर्मी से संबंध –

सारिका ने बताया पृथ्वी के किसी भाग पर गर्मी वहां पड़ रही सूरज की सीधी किरणों के कारण होती है गर्मी में नक्षत्र की भूमिका रहती तो मकर रेखा में स्थित देशों में इस समय दिन का तापमान कम क्यों रहता । इस समय आस्ट्रेलिया में दिन का तापमान 18 डिग्री सेल्सियस वहीं मालदीप में 32 डिग्री के आसपास है रोहणी ,पृथ्वी से 65 लाईट इयर दूर है वो केवल किसी एक दो देश के तापमान बढ़ाने का काम क्यों करेगा l सूरज का रोहणी में आना केवल उस समय को एक घड़ी की तरह बताता है जब मध्य भारत में गर्मी पड़ती है l इसलिए रोहणी को समझे घड़ी का कांटा पूरे पृथ्वी से गर्मी से नहीं है इसका नाता l

गरीब लोगो के लिए बिजली बिल माफी योजना 2024: ऐसे करे आवेदन, मात्र ₹200 आएगा बिल

Anganwadi Supervisor Bharti 2024: आंगनवाड़ी विभाग में सुपरवाइजर के पदों पर निकली भर्ती, ऐसे करे आवेदन

- Install Android App -

Don`t copy text!