ब्रेकिंग
Harda News: जलस्रोतों के संरक्षण हेतु 5 से 15 जून तक आयोजित होगा विशेष अभियान ‘नमामि गंगे’ अभियान की... BIG News : दिल्ली मे पारा पहुंचा 52.9 अब क्या होगा....? जानिए कितना है नुकसानदायक Harda Mp Big News: रेत माफिया के कब्जे से 390 डम्पर अवैध मुरूम जप्त की गई, कलेक्टर श्री सिंह ने की अ... Accident News : जम्मू हादसा यात्रियों से भरी यूपी की बस खाई में गिरी 21 की मौत बचाव कार्य जारी है Bhopal News : खेत में बने डेम में युवक के डूबने से हुई मौत Bhopal News : मप्र वन विभाग ने किया नीति में बदलाव निवेशकर्ताओं को मिलेगा लाभ Harda Breaking News: अजनाल नदी में डूबने से चाची और भतीजे की मौत, परिवार में छाया मातम! Shanidev's character: शनिदेव का किरदार मुझे धैर्य रखने, न्याय करने और अपने रोजमर्रा के कार्यों में व... PM Mudra Yojana 2024: सरकार दे रही है 10 लाख रुपए तक का लोन, ऐसे करें आवेदन E Kalyan Scholarship Yojana 2024: झारखंड सरकार सभी छात्रों को सरकार दे रही है ₹90000 तक छात्रवृत्ति,...

हंडिया: FIR दर्ज होने का डर ख़बर लगने के बाद बौखलाया विशाल तिवारी , फिर व्हाट्सएप ग्रुप पर कि अभद्रता वाली पोस्ट, आज तहसीलदार को माफी नामा लिखकर दिया! बोला मजाकिया अंदाज में लिख दी थी पोस्ट।

क्या लिखा माफी नामे में।

हंडिया: शिक्षा का पाठ पढ़ाने वाले शिक्षक विशाल तिवारी ने बीते दिनों व्हाट्सएप ग्रुप पर एक पोस्ट शेयर कर दी थी। उक्त पोस्ट में उन्होंने स्थानीय पटवारी पर सरकारी जमीन बेचने का गंभीर आरोप लगाया था। जब सोशल मिडिया पर यह पोस्ट वायरल हुई ओर अधिकारियों तक पहुची तो इस पोस्ट से राजस्व विभाग के अधिकारी ओर पटवारियों में बवाल मच गया। उधर पटवारी रमेश नाग ने मंगलवार को विशाल तिवारी के खिलाफ थाने में FIR दर्ज करने कि बात कही थी। इधर आज सुबह विशाल तिवारी द्वारा हंडिया तहसीलदार को लिखित माफी नामा लिखकर दे दिया।

उधर बीते काल जब इस मामले में पटवारी के हवाले से FIR की बात कही थी। उक्त बयान के बाद ख़बर लगने के बाद विशाल तिवारी ने गुस्से से आग बबूला हो गया। ओर मकड़ाई एक्सप्रेस के रिपोर्टर को व्हाट्सएप ग्रुप पर अभद्र भाषा शैली का उपयोग करते हुए दो तीन पोस्ट शेयर कि ।

पहले शेर की तरह दहाड़ लगाई , एफआईआर के डर से रात भर नींद नहीं आई ,दूसरे दिन माफी नामा

इधर आचार संहिता में सोशल मिडिया पर किसी भी प्रकार कि भ्रामक जानकारी व विवादित पोस्ट पर प्रतिबंध लगा हुआ है। उसके बाद भी शिक्षा का पाठ पढ़ाने वाले एक शिक्षक के द्वारा ही इस प्रकार कि भाषा शैली और गंभीर आरोप लगाने के बाद माफी नामा लिखकर दे रहे है। आने वाली युवा पीढी को इस ओर ध्यान देना होगा। बिना कोई तथ्य के किसी के उपर भी आरोप लगा देना फिर कह देना हमारे मधुर संबंध रहे है। मजाक में लिख दिया था। ऐसे शिक्षक स्कूल में बच्चों को क्या शिक्षा देते होगे। ये सवाल उठता है।

 

- Install Android App -

Don`t copy text!