ब्रेकिंग
हरदा के युवक की लाश खंडवा जिले में रेलवे ट्रैक पर मिली, गुरु पूर्णिमा पर धुनि वाले दादा जी के दर्शन ... भारी बारिश से मप्र मे धंसा रेल्वे ट्रेक, मध्यप्रदेश महाराष्ट्र भारी बारिश का कहर आवागमन हुआ बाधित सिवनी मालवा: 11:15 तक मोरघाट माध्यमिक शाला में कोई शिक्षक नही आया विद्यार्थी दीवार कूद कर अंदर खड़े,... Harda news: अज्ञात युवक की लाश मिली ,कड़ोला नदी के पास पुलिस जांच में जुटी ! सावन के पहले सोमवार महाकालेश्वर मन्दिर मे भक्तों की भीड़,  रात 2:30 से खुले मन्दिर के पट मन्दिर प्रश... Aaj Ka Rashifal | राशिफल दिनांक 22 जुलाई 2024 | जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे खरगोन बेड़ियां: महिला पर जानलेवा हमला करने वाले फरार आरोपी को बेड़िया पुलिस ने किया गिरफ्तार, भेजा जे... हंडिया : भगवान कुबेर की तपोभूमि पर गुरु आश्रमों में भक्ति भाव व श्रद्धा के साथ मनाया गया गुरु पूर्णि... सदबुद्धि यात्रा (हरदा ब्लास्ट पीड़ित द्वारा हरदा से हंडिया तक) अर्थ ग्रीन इनिशिटेटित के तहत किया गया वृक्षारोपण किया

बारिश में पेड़ के नीचे खड़े होकर बिजली को न दें आमंत्रण – सारिका घारू

भोपाल। अप्रैल माह में गर्मी का अहसास को भुलाते हुये छाते , रेनकोट की याद दिलाने वाली बारिश ने सभी निर्धारित कार्यक्रमों पर असर डाला है । अब जबकि गर्मी से बचने की तैयारी की जा रही थी तब ही बारिश अपना ट्रेलर दिखा रही है । इस बारिश के साथ डराने वाली बिजली की चमक और गर्जना कई लोगों में भय उत्पन्न कर रही है । अपने दैनिक कार्यों को करते समय कई बार आमलोग इस बारिश से बचने पेड़ों के नीचे खड़े होकर बचने का प्रयास करते हैं लेकिन यह जहां कुछ देर तक भीगने से तो बचा सकता है लेकिन आसमानी बिजली को आपकी ओर आमंत्रित भी कर सकता है । इस बारे में सतर्क करने नेशनल अवार्ड प्राप्‍त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने बिजली से बचाव के लिये जागरूक कर रही हैं ।

बादल गरजे, बिजली चमके ,नहीं खड़ें होना पेड़ के पास , बात यह खास रखना है याद , इस तरह का गीतमय संदेश देकर सारिका द्वारा आपदा प्रबंधन के बारे में सतर्क किया जा रहा है ।

सारिका ने बताया कि बरसात के इन दिनों में आकाशीय बिजली के गिरने से नुकसान की खबरें आती रहती हैं । पेड़ के नीचे खड़े रहने वाले अक्‍सर इसके शिकार होते हैं । चूंकि बिजली किसी सहारे से पृथ्‍वी तक पहुंचना चाहती हे इस कारण बिजली पेड़ों की तरफ आकर्षित होती है ।

सारिका ने कहा कि बिजली चमकते समय वृक्ष के नीचे न खड़े हों । किसी मकान में आश्रय ले सकते हें । अगर बंद वाहन में यात्रा कर रहे हैं तो वाहन के अंदर ही रहें । खुली छत वाले वाहन में यात्रा न करें । बिजली या अन्‍य धातु के खंभे से दूर रहें । घर में रहते हुये बिजली के उपकरणों से दूर रहें । खिड़किया एवं दरवाजे बंद रखें । घर की पाईप लाईन अगर धातु की है तो नल आदि से दूर रहें। मौसम विभाग की चेतावनी को ध्‍यान में रखते हुये बाहर निकलने का निर्णय लें ।

 

क्‍या है आकाशीय बिजली –

- Install Android App -

सारिका ने बताया कि बिजली कड़कना प्राकृतिक है । बादलों के अंदर गर्म हवा की गति से धन आवेश उपर की ओर तथा नीचे ठंडी हवा होने से ऋण आवेश रहता है । जब इस आवेश की मात्रा अधिक हो जाती है तो इसके पृथ्‍वी पर गिरने की आशंका बढ़ जाती है । वह किसी सुचालक की तलाश करके पृथ्‍वी तक आना चाहती है और यह काम पेड़ या खंभे करते हैं । इसके नीचे खड़ा व्‍यक्ति पानी से तो कुछ देर बच सकता है लेकिन बिजली गिरने की दुघर्टना की सभावना बढ़ जाती हे ।

 

Don`t copy text!