ब्रेकिंग
हरदा हंडिया: नर्मदा नदी में गंगा दशमी स्नान करने गए दो युवक गहरे पानी में डूबे, एक की लाश पास में ही... हंडिया : मानव श्रृंखला बनाकर स्वच्छता की शपथ दिलाई हंडिया : हर हर गंगे व ‌नर्मदे हर के उद्घोष के साथ हजारों श्रद्धालुओं ने लगाई मां नर्मदा में आस्था की... Harda News: पिछले 24 घंटों में जिले में 12.9 मि.मी. औसत वर्षा हुई Harda News: रेडक्रास समिति के स्थायी सदस्यों की सूची प्रकाशित दावे आपत्ति 28 जून तक प्रस्तुत करें, 5... Harda News: मानव श्रृंखला बनाकर और शपथ दिलाकर की जल संरक्षण की अपील Dewas News : टेंकर को पलटता देख क्लीनर जान बचाने ट्रैक्टर से कूदा मगर गर्म डामर काल बनकर उस पर गिरा ... Police News : आधी रात को सड़क पर उतरी पुलिस 667 बदमाशों की करी धड़ पकड़ Gaon ki Beti Yojana 2024 : गांव की बेटियों की हुई मौज, बेटियों को अब मिलेंगे पुरे 5000 रूपए, ऐसे करे... Khategaon News: नर्मदा नदी के इस घाट पर टूरिस्‍ट ट्रेवलर बस से पहुंची खनिज विभाग की टीम 28 ट्रैक्टर ...

Indore News: खुले बोर की सूचना देने पर मिलेगा 10 हजार रुपये का ईनाम आमजन की सुरक्षा को लेकर कलेक्टर का आदेश

मकड़ाई एक्सप्रेस 24 इंदौर : आमजन की सुरक्षा ही प्रशासन की प्राथमिकता हैं। इस बात को ध्यान में रखते कलेक्टर आशीष सिंह ने एक यह आदेश जारी किया है। कलेक्टर ने रीवा की खुले बोरवेल में बालक की मौत होने के बाद इस कार्यवाही को अहम बताया है।जनमानस की सुरक्षा प्रशासन को ध्यान में रख यह अनोखी पहल की है कि जो भी व्यक्ति खुले बोरवेल की सूचना देगा उसे कलेक्टर द्वारा 10 हजार रुपये का ईनाम दिया जायेगा। इंदौर प्रशासन ने तारीफेकाबिल बड़ा कदम उठाया है। कलेक्टर आशीष सिंह ने जनमानस की सुरक्षा को ध्यान में खुले नलकूप या बोरवेल की सूचना देने वाले को 10 हजार रूपए का इनाम दिया जाएगा। इस संबंध में सार्वजनिक सूचना जारी की गई है। इसके साथ ही मोबाइल नंबर भी जारी किया है।

खुले बोरवेल बने मौत का घर होगी सख्त कार्रवाई
हमारे नगरीय ग्रामीण क्षेत्रो में लोग पानी की कमी देखते हुए नलकूप या बोरवेल करा लेते हैं। फिर नल या पंप को फिट कराने में समय लगता हैं तब तक वह खुला ही रहता हैं या पानी सूख जाए तो लोग उसे लापरवाही से खुला छोड़ देेते हैं जिससे कई बार दुर्घटनांए हो जाती है।चाहे वह किसान हो या मकान मालिक उन बोरवेल को फिर पानी सूखने के बाद उनके मालिक चाहे वो मकान मालिक हो या किसान हो बिना ढक्कन लगाए बोरवोल को खुला छोड़ देते हैं। यह लापरवाही नन्हीं जानों पर भारी पड़ती हैं।इसकी सूचना मिलने पर पूरा प्रशासन उस बच्चे को बचाने जुट जाता हैं । 20 से 40 घंटे प्रशासन पूरी मशीनरी के साथ लगा रहता हैं। एक छोटी लापरवाही के कारण न जाने कितनों लोगो को परेशान होना पड़ता है। इसलिए कलेक्टर आशीष सिंह ने एक अहम आदेश पारित किया है।जिसकी नगर में प्रशंसा की जा रही है।

- Install Android App -

Don`t copy text!