ब्रेकिंग
Harda News: RTO आफिस के निरीक्षण में नहीं मिला कोई अधिकारी कर्मचारी, आरटीओ के विरूद्ध होगी अनुशासनात... Harda News: हंडिया अस्पताल के अनुपस्थित अधिकारी कर्मचारियों का वेतन काटने के निर्देश Harda News: कलेक्टर श्री सिंह ने हंडिया का दौरा किया, नाली निर्माण के दिये निर्देश, हंडिया के पंचायत... Harda News: कलेक्टर श्री सिंह ने कन्या छात्रावास का आकस्मिक निरीक्षण किया Harda big news: चोर गिरोह ने फिर बड़ी चोरी की वारदात को दिया अंजाम, किसान के घर कुत्ते को बेहोश कर घ... साले ने की जीजा की चाकू मारकर बेरहमी से की हत्या, फैली सनसनी, मोघट रोड पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्त... Aaj Ka Rashifal | राशिफल दिनांक 16 जुलाई 2024 | जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे Jio, Airtel, Vi Recharge 2024: Jio, Airtel और Vi मे सबसे अच्छा कौन ? Harda News: हरदा विधायक डॉ. दोगने द्वारा ग्राम भीमपुरा में किया गया सामुदायिक भवन का भूमि पूजन Harda News: ‘एक पौधा माँ के नाम’ अभियान के तहत ग्राम उड़ा में 280 पौधों का रोपण किया

MP News: भाव न मिलने से किसान हजारों बोरी उपज लेकर घर वापिस लौटे

बंपर आवक से मंडी में खासी रौनक देखने को मिली मगर जगह जगह से किसान अपनी उपज लेकर मंडी पहुंचे थे मगर भाव सही न मिलने के कारण हजारों किसान बिना बिक्री किए मायुस होकर वापिस घर लौटे

मकड़ाई एक्सप्रेस 24 बड़वानी। सौंफ के लिए प्रसिद्ध शहर स्थित मंडी में इस बार मालवा,निमाड़ के जिलों से बड़ी संख्या में किसान अपनी अपनी उपज बेचने पहुंचे।जानकारी के अनुसार पहली बार करीब 4 हजार बोरी सौंफ की आवक रही।

मावठे से प्रभावित होने से भाव नहीं मिले

मगर सौंफ के भाव अच्छे नही मिलने की शिकायत किसानों ने की है। कारण बताया जा रहा है कि सौंफ की क्वालिटी मोटी और मावठे से प्रभावित होने से भाव नहीं मिले। इसीलिए बड़ी संख्या में किसान हजारों बोरी उपज लेकर वापस घर लौट गए। मंडी में बंपर आवक के चलते खासी रौनक नजर आई। मंडी परिसर में सौंफ के ढेर से पट गया। परिसर के कोने.कोने में किसान सौंफ की बोरियां व ढेर लगाकर बिक्री का इंतजार करते नजर आए।

कई जिलों के किसान पहुंचे थें

- Install Android App -

इस बार बड़वानी सहित धार, झाबुआ, अलीराजपुर, खरगोन से लेकर इंदौर, उज्जैन व देवास तक के किसान अपनी उपज बेचने पहुंचे।,लेकिन सौंफ मोटी व मावठे से प्रभावित होना बताकर जिसका भाव 50 रुपए से अधिक नहीं मिला। ऐेसे में पिकअप वाहनों में हजारों रुपए परिवहन खर्च कर बेहतर भाव के लिए मंडी में आए किसान मायूस होकर लौटे। वहीं व्यापारियों का तर्क रहा कि मोटी और मावठे से सीलन वाली सौंफ की खरीदी न के बराबर मांग होती है। ऐसे में इसका भाव अधिकतम 50 रुपए किलो से अधिक नहीं दे सकते। बड़वानी.राजघाट मार्ग पर दिन में पल.पल जाम के हालात बनते रहे। वहीं निजी अस्पताल होने से लोगों को परिवहन में खासी दिक्कतें आई।

Don`t copy text!