ब्रेकिंग
Mousum News : मप्र में बदलेगा मौसम, नर्मदापुरम में तेज बारिश के साथ औले गिरने की संभावना Breking News: खरगोन में फुटवियर दुकान में लगी आग में परिवार के चार लोग झुलस गए MP News: CM मोहन यादव के बेटे और हरदा की बेटी आज पुष्कर में लेंगे सात फेरे। Ladli Behna Aawas Yojana: मध्य प्रदेश की महिलाओं को 01 मार्च को मिल सकता है, आवास योजना की पहली किस्... Khandwa News: कुशीनगर एक्सप्रेस के प्लेटफार्म पर आते ही मची भगदड़ आखिर जिम्मेदार कौन? बेदम हुए मरीज ... Crime News : महिला व्यवसायी से शादी का इंकार करना एंकर को पड़ा महंगा, हुआ किडनेप शादी की हां कहने पर ... katni News :सुंअर का शिकार करने वाले 10 लोगो को वनकर्मियों ने पकड़ा, ग्रामीण उन्हे छुड़ाकर अपने साथ ले... Accident News : तेज रफ्तार ट्रक ने महिला को मारी टक्कर मौके पर हुई मौत, भीड़ ने किया चक्काजाम Sirali news: सिराली में आदिवासी की मानव सुधार पट्टा से पिटाई, 40 हजार की घुस मामले में जयश कल 25 फरव... Harda : कट्टा लहराते धमकी देते गुंडों का वायरल हुआ था विडियो, एसपी ने लिया एक्शन, पुलिस ने 24 घंटो म...

हरदा : किशोर न्याय अधिनियम के क्रियान्वयन के लिये सेंसेटाईजेशन ट्रेनिंग प्रोग्राम सम्पन्न

हरदा : प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्रीमति तृप्ति शर्मा के मार्गदर्शन में माननीय सर्वाेच्च न्यायालय द्वारा संपूर्ण बहरूआ विरूद्ध भारत संघ के मामलें में पारित आदेश के पालन में किशोर न्याय अधिनियम के समुचित क्रियान्वयन हेतु समस्त हितधाराकों के लिये शुक्रवार को जिला न्यायालय परिसर के ए.डी.आर. सेंटर भवन के सभागृह में सेंसेटाईजेशन ट्रेनिंग प्रोग्राम का आयोजन किया गया।

प्रशिक्षण में किशोर न्याय अधिनियम के क्रियान्वयन से संबंधित हितधारक जैसे विशेष किशोर पुलिस इकाई पदाभीहित पुलिस अधिकारीगण, महिला एवं बाल विकास विभाग के संबंधित अधिकारीगण, प्रोबेशन अधिकारी एवं अन्य संबंधित अधिकारीगण को किशोर न्याय अधिनियम, 2015 का बालकों के सर्वाेत्तम हित एवं कल्याण को ध्यान में रखते हुये समुचित क्रियान्वयन तथा सभी हितधारकों में आपसी समन्वय को सुदृढ़ बनाने के लिये प्रशिक्षण एवं मार्गदर्शन प्रदान किया गया।
ट्रेनिंग के दौरान जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री प्रदीप राठौर ने बताया कि किशोर न्याय अधिनियम के तहत संरक्षण एवं देखरेख की जरूरतमंद बालकों एवं विधि का उल्लंघन करने वाले आपचारी बालकों के सर्वाेत्म कल्याण एवं पुनर्वास के लिये हमे केवल ड्यूटी के तौर पर नहीं बल्कि मानवीय सोच को धारित कर कार्य करना होगा, तभी किशोर न्याय अधिनियम के निहित उद्देश्य की प्राप्ति संभव हो सकेगी।

सेन्सेटाइजेशन प्रोग्राम में किशोर न्याय बोर्ड की प्रधान न्यायाधीश श्रीमति प्रियंका सुमन साकेत ने किशोर विधि शास्त्र की व्यवहारिक एवं प्रायोगिक समझ को बताया एवं कहा कि प्रयास हो किशोर की पीड़ा को कम करने की दिशा में पुलिस बाल मित्र द्वारा सार्थक पहल हो और प्रयास किया जाए कि बाल विधि उल्लंघनकारी दौबारा अपराध में लिप्त न हो और किशोर को अन्य अपराधीं की तरह न समझा जाए। उनके प्रति अधिक संवेदनशील रहते हुए कार्य किए जाने की आवश्यकता है। प्रधान न्यायाधीश द्वारा किशोर न्याय अधिनियम एवं केन्द्रीय नियमों के प्रावधानों को विस्तारपूर्वक बताया गया।

यह भी पढ़े-

- Install Android App -

कार्यक्रम में विशेष किशोर पुलिस इकाई पदाभीहित पुलिस अधिकारीगण, महिला एवं बाल विकास विभाग के संबंधित अधिकारीगण, प्रोबेशन अधिकारी, लीगल एड डिफेंस काउंसिल अधिवक्ता जवाहर पारे अनीस मोहम्मद खान, अंतिमा चोलकर, पैनल अधिवक्ता श्री एलबीएस चौहान एवं पैरालीगल वालेटियर श्रीमति प्रीति सोनी उपस्थित रही। कार्यक्रम का संचालन एवं आभार जिला विधिक सहायता अधिकारी सुश्री अपर्णा लोधी द्वारा किया गया।

Don`t copy text!