ब्रेकिंग
हरदा हंडिया: नर्मदा नदी में गंगा दशमी स्नान करने गए दो युवक गहरे पानी में डूबे, एक की लाश पास में ही... हंडिया : मानव श्रृंखला बनाकर स्वच्छता की शपथ दिलाई हंडिया : हर हर गंगे व ‌नर्मदे हर के उद्घोष के साथ हजारों श्रद्धालुओं ने लगाई मां नर्मदा में आस्था की... Harda News: पिछले 24 घंटों में जिले में 12.9 मि.मी. औसत वर्षा हुई Harda News: रेडक्रास समिति के स्थायी सदस्यों की सूची प्रकाशित दावे आपत्ति 28 जून तक प्रस्तुत करें, 5... Harda News: मानव श्रृंखला बनाकर और शपथ दिलाकर की जल संरक्षण की अपील Dewas News : टेंकर को पलटता देख क्लीनर जान बचाने ट्रैक्टर से कूदा मगर गर्म डामर काल बनकर उस पर गिरा ... Police News : आधी रात को सड़क पर उतरी पुलिस 667 बदमाशों की करी धड़ पकड़ Gaon ki Beti Yojana 2024 : गांव की बेटियों की हुई मौज, बेटियों को अब मिलेंगे पुरे 5000 रूपए, ऐसे करे... Khategaon News: नर्मदा नदी के इस घाट पर टूरिस्‍ट ट्रेवलर बस से पहुंची खनिज विभाग की टीम 28 ट्रैक्टर ...

CM मोहन यादव के आदेशों की शिक्षा विभाग के अधिकारी उड़ा रहे धज्जियां, कार्यवाही की जगह प्राइवेट स्कूलों में जाकर लस्सी और चाय की चुस्कियों के साथ निभाई जा रही औपचारिकता।

➡️✍️✍️ के के यदुवंशी पत्रकार,

सिवनी मालवा। प्रदेश के मुखिया मोहन यादव ने प्राइवेट स्कूलों की मनमानी को रोकने बीते दिनों आदेश जारी किए थे। उसके बाद मध्यप्रदेश शासन शिक्षा विभाग के द्वारा जिले के सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश जारी किए गए थे मध्यप्रदेश में सभी जिलों में स्कूल संचालकों की मनमानी और कमीशन का धंधे पर लगाम लगाई जाए। लेकिन नर्मदा पुरम के सिवनी मालवा में शिक्षा विभाग के अधिकारी शिकंजा कसना शुरू करने की वजह रिश्तेदारी निभा रहा है।
इसलिए तो स्थानी प्रशासन के द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।
शिक्षा विभाग की टीम ने तीन स्कूल जो अपनी मनमानी कई सालों से कर रहे हैं शिकायत के बाद उनकी जांच करना शुरू कर दिया।
टीम को देखकर संचालकों में हड़कंप नहीं है । क्योंकि चर्चा का विषय है कि पहले ही सेटिंग कर ली गई है। स्कूल संचालकों के द्वारा अधिकारीयो के निजी स्कूलों में आगमन पर उनका चाय और लस्सी से स्वागत किया जाता है ।
शिकंजा कसने की वजह जांच करने की वजह रिश्तेदारी निभाने वाली चर्चा में मशगूल रहते हैं। सिवनी मालवा में प्राइवेट स्कूलों की मनमानी को लेकर पालक के द्वारा कहा जाता है की स्कूलों के द्वारा एक स्थान पर पुस्तक ड्रेस मनमानी फीस ली जा रही है लेकिन कोई कार्रवाई शिक्षा विभाग की टीम नहीं कर पाई एक स्कूल में तो शिक्षा विभाग की टीम को गेट पर गार्ड ने रोक लिया और जाने नहीं दिया टीम के द्वारा अपना परिचय बताने के बाद भी नहीं जाने दिया शिक्षा विभाग की टीम के द्वारा स्कूल में खबर भेजी गई।
उसके बाद अंदर आने दिया और फिर स्वागत का द्वारा शुरू हो गया इससे यह पता चलता है कि स्कूल संचालकों द्वारा किस प्रकार मनमानी चल रही है जिसे रोकना मुश्किल हो रहा है यह तीन बड़े स्कूल में सत्ताधारी सफेद वस्त्र धारण नेताओं की ही चलती है। यह टीम कुछ नहीं बिगाड़ सकती है चर्चा का विषय बना हुआ है। वही टीम के द्वारा पत्रकारों को भी कोई जानकारी नहीं दी जा रही है।

- Install Android App -

Don`t copy text!