ब्रेकिंग
Aaj ka rashifl: आज दिनांक 20/05/2024 को जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे Harda: कलेक्टर श्री सिंह ने जिला जेल का किया आकस्मिक निरीक्षण , अव्यवस्थाओं को लेकर नाराजगी व्यक्त क... Harda sirali BIG news: कुख्यात ईनामी बदमाश इमरान उर्फ मौलाना को सिराली पुलिस ने किया गिरफ्तार! 5 वर्... देवास: किसान के खेत में बंधी गोवंश की हत्या, बोरी में भरकर ले जा रहे थे आरोपी, एक पकड़ाया अन्य भाग ग... Sirali news: कलेक्टर श्री सिंह ने तहसील कार्यालय सिराली का औचक निरीक्षण किया Harda: कलेक्टर श्री सिंह ने नहरों से सिंचाई कार्य का निरीक्षण किया, सिंचाई में बाधक बनने वाले हेडअप ... कन्नौद: नदी में डूबने से 17 वर्षीय युवक की मौत, मृतक कन्नौद के वार्ड क्रमांक 4 का निवासी नर्मदा नदी: रील के चक्कर में जान गवाई! नर्मदा नदी के पुल से कूदे दो युवक हुई मौत, इधर नर्मदा पुरम मे... गैस सिलेंडर सब्सिडी हुई जारी, ऐसे चेक करे अपना नाम लखपति दीदी योजना: केंद्र सरकार 3 करोड़ महिलाओं को बनाएगी लखपति, शुरू हुई योजना

Harda News: कलेक्टर श्री सिंह ने कृषि, उद्यानिकी व सहकारिता योजनाओं की समीक्षा की

हरदा : कलेक्टर श्री आदित्य सिंह ने सोमवार को कृषि उपज मण्डी के सभाकक्ष में कृषि, उद्यानिकी, सहकारिता व पशुपालन विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर विभागीय योजनाओं की विस्तार से समीक्षा की। उन्होने आगामी दिनों में होने वाले उपार्जन कार्य की तैयारियों के संबंध में भी उपस्थित अधिकारियों से जानकारी ली। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री रोहित सिसोनिया, डिप्टी कलेक्टर श्री संजीव नागू, उप संचालक कृषि श्री संजय यादव, सहायक आयुक्त सहकारिता श्री वासुदेव भदोरिया सहित अन्य विभागीय अधिकारी भी मौजूद थे। कलेक्टर श्री सिंह ने उपस्थित सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कि किसानों के लिये संचालित सरकार की योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों के माध्यम से और संचार माध्यमों से करायें ताकि किसानों को इन योजनाओं की जानकारी हो और वे इन कृषक कल्याणकारी योजनाओं का लाभ ले सके।

कलेक्टर श्री सिंह ने बैठक में निर्देश दिये कि कृषि, सहकारिता, पशुपालन व उद्यानिकी विभाग की योजनाओं का लाभ केवल पात्र किसानों को ही मिले, अपात्रों को नहीं। यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होने कहा कि उन्नत कृषि यंत्रों व उपकरणों का लाभ लेने के लिये विभागीय पोर्टल के माध्यम से किसानों के आवेदन लिये जायें और उनमें से पात्र किसानों को ही लाभ दिलाया जाए। कलेक्टर श्री सिंह ने उपसंचालक कृषि को निर्देश दिये कि किसानों को उन्नत कृषि संबंधी प्रशिक्षण के लिये जिले के बाहर और राज्य के बाहर ले जाने के लिये कार्यक्रम आयोजित किये जायें ताकि किसान नई-नई जानकारी लेकर अपना उत्पादन और आय बढ़ा सकें। प्रशिक्षण के लिये किसानों का चयन पारदर्शिता पूर्ण तरीके से किया जाए। कलेक्टर श्री सिंह ने निर्देश दिये कि मूंग उत्पादन के लिये उर्वरक की आवश्यकता का आंकलन अभी से करें तथा पर्याप्त उर्वरक की उपलब्धता सुनिश्चित करें ताकि आवश्यकता के समय किसानों को पर्याप्त उर्वरक उपलब्ध हो सके। कलेक्टर श्री सिंह ने कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि खाद, बीज व कीटनाशकों की दुकानों का औचक निरीक्षण करें तथा अमानक कीट नाशक व खाद बीज विक्रय करने वाले संस्थानों के लायसेंस निलंबित व निरस्त करने की कार्यवाही की जाए। उन्होने कहा कि खाद, बीज व कीटनाशकों की दुकानों पर सामग्री की विक्रय दर संबंधी जानकारी स्पष्ट शब्दों में अंकित रहे तथा यदि किसान इसकी शिकायत करना चाहे तो उपसंचालक कृषि, सहायक संचालक उद्यानिकी या संबंधित क्षेत्र के एसडीएम का फोन नम्बर भी दुकान के सूचना पटल पर अंकित रहे। कलेक्टर श्री सिंह ने निर्देश दिये कि एसडीएम की अध्यक्षता में जांच समिति बनाई जाए जो कि खाद, बीज व कीटनाशकों की दुकानों की समय-समय पर जांच करें। उन्होने निर्देश दिये कि खाद, बीज व कीटनाशक विक्रेताओं में से जालसाजी करने वालों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कराई जाए। कलेक्टर श्री सिंह ने कृषि व उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को खाद, बीज व कीटनाशक विक्रेताओं की दुकानों पर बेची जा रही सामग्री की सैम्पलिंग व जांच कराने के निर्देश भी दिये।

किसान प्रतिनिधियों को दी गई योजनाओं की जानकारी –

कृषि उपज मण्डी के सभाकक्ष में उपस्थित किसान प्रतिनिधियों को कृषि, सहकारिता, पशुपालन, डेयरी, मार्कफेड व उद्यानिकी विभाग की योजनाओं के बारे में संबंधित विभागीय अधिकारियों ने जानकारी दी। इस अवसर पर कलेक्टर श्री आदित्य सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री रोहित सिसोनिया, कृषि स्थाई समिति के सभापति श्री ललित पटेल व अन्य कृषक प्रतिनिधि मौजूद थे। सहायक संचालक उद्यानिकी ने किसानों को बताया कि पॉली हाउस, नेट हाउस, स्प्रिंकलर व ड्रिप सिंचाई पद्धति के लिये ऑनलाइन आवेदन लिये जाते है तथा अधिक आवेदन पर लॉटरी पद्धति से हितग्राहियों का चयन कर उन्हें विभागीय अनुदान सुविधा का लाभ भी दिलाया जाता है।

- Install Android App -

Don`t copy text!