ब्रेकिंग
हरदा: गैस सिलेण्डर अधिक मात्रा में संग्रहित होने पर तत्काल सूचित करें इन नंबरों पर Harda: गेहूँ उपार्जन हेतु 1 व चना उपार्जन हेतु 10 मार्च तक होंगे किसान पंजीयन Aaj Ka Rashifal: आज 28/01/2024 का राशिफल, Daily Horoscope Harda News: उपभोक्ता आयोग हरदा का आदेश: बैंक मैनेजरों को उपभोक्ता आयोग का कारण बताओ नोटिस जारी टिमरनी : खनिज विभाग की रेत माफियाओं से सांठ गांठ विधायक अभिजीत शाह पकड़ रहे अवैध रेत की ट्रेक्टर ट्रा... Harda News: अतिवृष्टि ओलावृष्टि से तबाह हुई किसानो की फसल, विधायक अभिजीत शाह पहुंचे खेतो में Harda News: राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण एजेंसी ठेकेदार द्वारा किसानों के खेतो में जाने वाले मार्ग को ... Breaking News: अब प्रदेश के मुख्य पर्यटन स्थलों को PPP मॉडल के तहत हवाई मार्ग से जोड़ा जाएगा साथ ही ... ग्राम पंचायत सचिव भर्ती 2024: पंचायत सचिव के 8000 पदों पर निकली भर्ती, ऐसे करे आवेदन PM Ujjwala Yojana 2024 : केंद्र सरकार ने किया बड़ा बदलाव, अब सिर्फ इन महिलाओं को मिलेगा लाभ

What Causes Period ? पीरियड्स में सिर्फ 2 दिन क्यों होती है, जाने कारण, ब्लीडिंग से राहत के उपाय 

Causes Of Two Days Menstrual Flow During Periods : अक्सर देखा है युवतियों को विवाहित महिलाओ को कभी कभी पीरियड्स में 3 से 5 दिनों तक ब्लीडिंग होती है। इसे ही नॉर्मल पीरियड्स कहा जाता है। लेकिन, कुछ महिलाओं को इससे कम या इससे ज्यादा दिनों तक भी ब्लीडिंग हो सकती है। कई बार दो दिन ही ब्लीडिंग होकर रुक जाती है। अगर किसी महिला को नियमित रूप से मात्र दो दिन ब्लीडिंग होती है।, तो यह शरीर केi लिए नुकसान दायक है। ऐसा होने पर महिला को चाहिए कि वह डॉक्टर को संपर्क करें। लेकिन, इससे पहले यह जान लेना जरूरी है कि आखिर ऐसा क्यों होता है।

प्रेग्नेंसी के दौरान इन बातो का रखे ख्याल  –

स्त्रीरोग विसेस्ग्यो की माने तो “प्रेग्नेंसी होने पर कई बार महिला को शुरुआती दिनों में महज एक से दो दिनों तक ब्लीडिंग हो सकती है। हालांकि, इस दौरान जो ब्लीडिंग होती है, उसका रंग अलग होता है। यह पिंक से डार्क ब्राउन कलर का नजर आ सकता है। वैसे आपको बता दें कि जरूरी नहीं है कि हर प्रेग्नेंट महिला के साथ ऐसा हो।”

मिसकैरेज होने पर क्या करे –

मिसकैरेज होने पर अक्सर महिलाओं को ब्लीडिंग होती है। इस तरह की कंडीशन को अक्सर महिलाएं प्रेग्नेंसी में ब्लीडिंग होने से रिलेट करके देखती हैं। लेकिन, मिसकैरेज होने पर महिला को काफी ज्यादा पेट में दर्द, क्रैंप्स होने लगते हैं। कभी-कभी ब्लीडिंग बहुत ज्यादा हैवी होने लगती है। मिसकैरेज होने पर पीठ में और पेल्विक एरिया में दर्द भी होता है।डॉ. शोभा गुप्ता कहती हैं, “डिलीवरी के बाद जो महिलाएं अपने बच्चे को ब्रेस्ट फीड कराती हैं, उन्हें अक्सर लगभग 6 माह तक पीरियड्स नहीं होते हैं। जब आप ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं को पीरियड्स होने लगते हैं, तो शुरुआती दिनां में हल्के स्पॉट्स नजर आते हैं और कई बार पीरियड्स देर से आते हैं।”

बर्थ कंट्रोल पिल लेना कहिये या नही –

यह भी पढ़े-

- Install Android App -

बर्थ कंट्रोल पिल लेने की वजह से भी कई बार महिलाओं के सिर्फ दो दिनों तक पीरियड्स होने की समस्या हो सकती है। दरअसल, बर्थ कंट्रोल पिल हार्मोन होते हैं। ये हार्मोन यूट्रस की लाइनिंग को पतला कर देती हैं। ऐसे में पीरियड्स डिस्टर्ब हो सकते हैं। कई बार पीरियड्स में नजर आ रहे ब्लड का कलर भी बदल जाता है।

स्ट्रेस होने पर क्क्य करे –

“कई बार महिलाओं को सिर्फ दो दिन पीरियड्स तब आते हैं, जब वे लंबे समय से स्ट्रेस या डिप्रेशन से गुजर रही होती है। डिप्रेशन या स्ट्रेस से मानसिक स्थिति स्थिर नहीं रहती है। इसका बुरा असर हार्मोन पर पड़ता है। हार्मोनल असंतुलन होने पर पीरियड्स में उतार-चढ़ाव नोटिस किए जा सकते हैं।”

 

Don`t copy text!