ब्रेकिंग
Harda news: अज्ञात युवक की लाश मिली ,कड़ोला नदी के पास पुलिस जांच में जुटी ! सावन के पहले सोमवार महाकालेश्वर मन्दिर मे भक्तों की भीड़,  रात 2:30 से खुले मन्दिर के पट मन्दिर प्रश... Aaj Ka Rashifal | राशिफल दिनांक 22 जुलाई 2024 | जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे खरगोन बेड़ियां: महिला पर जानलेवा हमला करने वाले फरार आरोपी को बेड़िया पुलिस ने किया गिरफ्तार, भेजा जे... हंडिया : भगवान कुबेर की तपोभूमि पर गुरु आश्रमों में भक्ति भाव व श्रद्धा के साथ मनाया गया गुरु पूर्णि... सदबुद्धि यात्रा (हरदा ब्लास्ट पीड़ित द्वारा हरदा से हंडिया तक) अर्थ ग्रीन इनिशिटेटित के तहत किया गया वृक्षारोपण किया बैंक ऑफ बड़ौदा खातेगांव शाखा में मनाया गया 117 वाँ स्थापना दिवस खातेगांव: नगर के शक्ति केंद्र क्रमांक 3 के 6 मतदान केदो के पोलिंग एजेंट का सम्मान जैन समाजजनों ने की भव्य आगवानी: मुनिश्री वीरसागरजी महाराज ससंघ का सिद्धोदय सिद्धक्षेत्र में हुआ मंगल...

‘MP अजब है गजब है’ यह पुलिस का कौन सा चेहरा ? अपहरण का वीडियो वायरल लेकिन पुलिस ने कराया आपसी समझौता,

अपहरण के मामले को पुलिस ने आपसी समझौते से टाला

के के यदुवंशी सिवनी मालवा : पुलिस का मुख्य काम कानून व्यवस्था को बनाए रखना है लेकिन बात अगर नर्मदापुरम की हो तो यहां पुलिस खुद ही जज बन जाती है और अपहरण जैसे गंभीर मामले को आपसी समझौते का रूप देकर खत्म कर दिया जाता है। जहां एक तरफ अपहरण जैसे मामले का वीडियो वायरल होने के बाद भी पुलिस का लापरवाहीपूर्ण रवैये से अपराधियों के हौसले बुलंद होते है।

तहसील से हुआ था अपहरण –

तहसील कार्यालय परिसर में एक युवक को कुछ लोग अपहरण कर ले जाते है लेकिन पुलिस की कार्यशैली कुछ इस तरह रही कि मामले को आपसी समझौते का रूप देकर खात्मा कर दिया गया। गौरतलब है कि बुधवार की दोपहर को सिवनी मालवा तहसील कार्यालय के परिसर जो थाने से लगभग 100 मीटर दूरी पर ही, वहां से चार पहिया वाहन में कुछ लोग आकर आतंक का माहौल बनाकर एक युवक का अपहरण कर फरार हो जाते है। जिसके बाद पगढाल के पास एसएसटी पाइंट पर आरोपियों को पकड़ कर सिवनी मालवा थाने लाया गया था। थाना प्रभारी सिवनी मालवा उषा मरावी का कहना है कि प्रेम प्रसंग का मामला था, दोनो पक्षों में आपसी समझौता हो गया है।

दिन भर क्षेत्र में रहा दहशत का माहौल –

दिन दहाड़े तहसील कार्यालय से एक युवक के अपहरण की खबर क्षेत्र में फैलते ही र्चाओं का दौर शुरू हो गया। थोड़ी देर बाद जब अपहरण की घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो क्षेत्र में दहशत का माहौल बन गया। इसके बाद भी पुलिस का रवैया मामले को टालने वाला ही रहा।

इन सवालों का जबाव कौन देगा ?

1. अपहरण जैसे गंभीर मामला दर्ज करने की बजाए समझौता करवाना कौन सी पुलिसिंग है?
2. क्या कोई भी अपराधी इस तरह की वारदात करके आपसी समझौता कर कानून से बच सकता है?
3. थाने से करीब 100 मीटर दूर तहसील कार्यालय में हुई वारदात से पुलिस की लापरवाही का जिम्मेदार कौन?
4. अपहरण ही घटना में आपसी समझौते से अपराधियों में कानूनी व्यवस्था पर उठे सवालों का जबाव कौन देगा?
5. अपहरण की वारदात को अंजाम देने वाले आरोपियों के आपराधिक रिकार्ड की जांच पुलिस द्वारा क्यों नहीं की गई?

- Install Android App -

______________

यह भी पढ़े –

Don`t copy text!