ब्रेकिंग
टिमरनी: पंचायत सचिव संगठन अध्यक्ष बने रामशंकर चौहान, पंचायत भवनों पर शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी अंकित कराएं कलेक्टर श्री सिंह ने बैठक में दि... मकड़ाई एक्सप्रेस की खबर का हुआ असर,सरपंच सचिव ने शासकीय राशि का किया दुरुपयोग, भ्रष्टाचार के मामले ज... हरदा ब्लास्ट पीड़ितों को न्याय दो ! 23 फ़रवरी को घंटाघर चौक शांतिपूर्वक प्रदर्शन करेगा सर्वसमाज ब्र... मोदी सपोर्ट सेवा समिति हरदा कार्यकारिणी का हुआ गठन  Timrani sirali MLA: विधायक अभिजीत शाह की शासकीय विभागों में की जा रही उपेक्षा, ब्लाक कांग्रेस कमेटी ... Ladli bahna yojana:मुख्यमंत्री मोहन यादव बोले लाडली बहनों के खाते में 1 मार्च को आ जायेगा पैसा,कोई भ... Sirali harda: सिराली के इस भूमाफिया पर प्रशासन कब करेगा कार्यवाही? प्रथम दृष्टया रजिस्ट्री में हुई ध... Bhopal: आजाद अध्यापक शिक्षक संघ पदाधिकारियों की प्रांतीय बैठक 25 फरवरी को Harda News : 70 लाख गरीब आदिवासी के डकारने वाले मामले के तार मुख्य सरगना डिप्टी रेंजर सिंह से जुड़े...

Seoni Malwa: बानापुरा कृषि उपज मंडी का ई-एप तैयार, अब आनलाइन होगा कारोबार, बड़े तौल कांटे के संचालक के मोबाइल में भी एप रहेगा, किसानों को उपज की भुगतान व्यवस्था भी एप से ही होगी।

के के यदुवंशी, सिवनी मालवा : बानापुरा कृषि उपज मंडी अब ऑनलाइन मंडी होगी अब किसानों को बहुत सी परेशानी से नहीं गुजरना पड़ेगा ऑनलाइन सुविधा से किसान सुविधा का लाभ ले सकेगा मतलब ई मंडी के नाम से जानी जाएगी। बानापुरा कृषि उपज मंडी सचिव राजेंद्र धनोरिया ने बताया कि व्यापारी, किसान, हम्मालों को कागजी कार्यों से छुटकारा मिल जाएगा। किसान के उपज से भरे वाहन के मंडी गेट से प्रवेश से लेकर नीलामी तक एप के माध्यम काम होगा। उपज की भुगतान व्यवस्था भी एप से ही होगी।

माना जा रहा है कि इस नवाचार से मंडी संचालन व्यवस्था में काफी सुधार होगा, बेनामी व्यापार पर रोक लगेगी। मंडी संचालन की वर्तमान व्यवस्था कागजों पर चल रही है, जिसमें काफी समय लगता है। इसको गतिमान करने के लिए मंडी को एप के माध्यम से संचालित करने की तैयारी हो गई है। मंडी सचिव राजेंद्र धनोरिया ने बताया कि सरकार की मंशा अनुसार ए श्रेणी की मंडी में जल्द ही आनलाइन ई मंडी व्यवस्था लागू की जा रही है।

इसके तहत कागजी काम काफी कम हो जाएगा। सिस्टम के अनुसार मंडी का एप तैयार हो गया है, कृषि उपज मंडी में अपनी उपज लेकर आने वाले किसानों के एंड्राइड मोबाइल में लोड कर दिया जाएगा। इससे किसान अपनी प्रवेश पर्ची बना सकेगा, जिसका नंबर गेट का कर्मचारी अपने कंप्यूटर में फीड कर लेगा। नीलामी में नीलामकर्ता व अनुबंधकर्ता के पास पीओएस मशीन रहेगी। इसमें किसान की उपज के नीलामी भाव अंकित करेगा, जो किसान के एप में भी अंकित हो जाएगा। तौल कांटे के संचालक के मोबाइल में भी एप रहेगा। वह किसान की पर्ची के आधार पर तौल का वजन अंकित करेगा, जो किसान के एप में दिखाई देगा। जिस व्यापारी के यहां उपज बिकी है, उसके मोबाइल में भी मंडी का एप लोड रहेगा, जिसमें किसान का नाम, उपज का वजन, भाव, अमाउंट बिल के रूप में आ जाएगा। व्यापारी को उपज के कुल कीमत से तुलाई कम कर अपने कम्प्यूटर से बिल निकालकर किसान को नकद भुगतान करना है।

इनका कहना –

बताया कि पीओएस मशीनें आ गई है उसके बाद व्यापारियों, नीलामकर्ता, अनुबंधकर्ता, तुलावटियों व इलेक्ट्रानिक बड़े तौल कांटों के संचालकों को प्रशिक्षण दिया गया ताकि गेहूं के सीजन से ई-मंडी का संचालन सुचारू रूप से किया जा सकें। बता दें मंडी का संचालन ई मंडी सिस्टम से ही हो रहा है।

यह भी पढ़े-

- Install Android App -

राजेंद्र धनोरिया सचिव
कृषि उपज मंडी बानापुरा
सिवनी मालवा।

Don`t copy text!