ब्रेकिंग
हरदा: बलाही समाज की बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए 18 कन्याओं को निशुल्क सिलाई मशीन वितरण की गई, श्री गणेश भावसार पालक महासंघ मध्यप्रदेश (रजि.) के खंडवा जिला अध्यक्ष नियुक्त हंडिया : आधा घंटा हुई झमाझम बारिश,मौसम हुआ सुहाना, Harda:एक पौधा मां के नाम" अभियान के तहत सर्किट हाउस परिसर में हुआ पौधारोपण, कलेक्टर श्री सिंह और अन्... Harda Big news: सोने चांदी के आभूषण चोरी करने वाले 03 आरोपी गिरफ्तार, 1 लाख 65 हजार के सोने चांदी के... सरकार की शिक्षा विभाग में लचर व्यवस्था आई सामने,जिला अधिकारी का पुतला दहन करेंगे अभाविप , दिया पुलिस... ब्राह्मण समाज हरदा ने पर्यावरण प्रेमी गौरीशंकर मुकाती का सम्मान किया । सिवनी मालवा: शाम होते ही शराबी सड़क पर झलकाते है जाम, पार्किंग सड़क पर आमजन होते है परेशान, Aaj ka rashifal: आज दिनांक 14/07/2024 का राशिफल जानिए आज क्या कहते है आपके भाग्य के सितारे Khandwa News: नेशनल लोक अदालत शिविर संपन्न ( महापौर ने किया, गुरूपूर्णिमा मेला स्थलो का निरीक्षण )

Makar Sankranti: पृथ्‍वी द्वारा सूर्य की परिक्रमा करने पर आधारित है मकर संक्रांति का पर्व – सारिका

देश भर में सूर्य की आराधना से जुड़ा पर्व दक्षिण में पोंगल, पूर्व मे बिहु तो मध्‍यभारत में मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है। इस पर्व के वैज्ञानिक पक्ष की जानकारी देने नेशनल अवार्ड प्राप्‍त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने सूर्य का साइंस कार्यक्रम का आयोजन किया । सारिका ने बताया कि मान्‍यता है कि मकर संक्रांति के दिन सूर्य उत्‍तरायण हो जाता है लेकिन वास्‍तव में अब ऐसा नहीं होता है । हजारो साल पहले मकर संक्रांति के दिन सूर्य उत्‍तरायण हुआ करता था । इसलिये यह बात अब तक प्रचलित है ।

सारिका ने बताया कि वैज्ञानिक रूप से सूर्य उत्‍तरायण 22 दिसम्‍बर को प्रात: 8 बजकर 57 मिनिट पर हो चुका है । उस समय सूर्य मकर रेखा पर था । इसके बाद दिन की अवधि बढ़ने लगी है ।

सारिका ने जानकारी दी कि संक्रांति का अर्थ सूर्य का एक तारामंडल से दूसरे तारामंडल में पहुंचने की घटना है । सूर्य के चारों ओर परिक्रमा करती पृथ्‍वी एक साल में 360 डिग्री घूमती है । इस दौरान पृथ्‍वी के आगे बढ़ने से सूर्य के पीछे दिखने वाला तारामंडल बदलता जाता है । जब सूर्य धनु तारामंडल छोड़कर मकर तारामंडल में प्रवेश करता दिखता है तो इसे मकर संक्रांति कहा जाता है । इस वर्ष मान्‍यता के अनुसार यह 15 जनवरी को होने जा रहा है ।

अभी से लगभग 1800-2000 वर्ष पूर्व मकर संक्रांति 22 दिसंबर के आसपास मानी जाती थी। उस समय संक्रांति और सूर्य उत्‍तरायण एक साथ होते थे। इसी गति और समय अन्तराल के बढ़ते क्रम के कारण यह संक्रांति अब 14-15 जनवरी तक आ गई है। लगभग 80 से 100 वर्ष में यह संक्रांति काल 1 दिन बढ़ जाता है। एक गणना के अनुसार एक साल में संक्रांति 9 मिनिट आगे बढ़ जाती है तथा 400 सालो में औसत रूप से 5.5 दिन आगे बढ़ जाती है ।

अत: सूर्य का उत्‍तरायण तो 22 दिसम्‍बर को चुका है लेकिन पतंग और तिल गुड़ की मान्‍यता के साथ सूर्य की महिमा को बताने वाले आगे बढ़ते मकर संक्रांति पर्व को सोमवार को मनाने पूरे उल्‍लास के साथ हो जाईये तैयार ।

- Install Android App -

Don`t copy text!